नई दिल्ली. जाकिर नाईक मामले को भारत सरकार ने गंभीरता से लेते हुए दो टूक जवाब दिया है. केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि जाकिर जाकिर नाईक के भाषणों पर सरकार की नजर है. इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि नाईक के भाषणों की जांच होगी और उसके बाद कार्यवाही भी की जाएगी.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
‘आतंक के मुद्दे पर समझौता नहीं’
राजनाथ सिंह ने मामले में सख्ती का रुख अपनाते हुए कहा है कि भारत सरकार आतंक के मुद्दे पर किसी भी तरह का समझौता नहीं करेगी. उन्होंने यह भी बताया कि नाईक के भाषणों को लेकर जरूरी आदेश दे दिया गया है. इतना ही नहीं जाकिर के बयानों की सीडी जांच भी की जा रही है.
 
 
महाराष्ट्र सरकार ने भी दिए जांच के आदेश
इससे पहले महाराष्ट्र सरकार ने भी नाईक के भाषणों की जांच का आदेश भी दे दिए हैं. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने मुंबई पुलिस आयुक्त को आदेश दिया है कि वो डॉक्टर जाकिर नाईक पर लग रहे आरोपों की जांच कर रिपोर्ट दें. 
 
 
‘मेरे ऊपर सब आरोप बेबुनियाद हैं’
वहीं दूसरी ओर डॉक्टर नाईक ने सऊदी से अपने ऊपर लग रहे आरोपों का खंडन करते हुए कुछ वीडियो क्लिप भेजी हैं, जिसमें वो भारतीय मीडिया को ही कटघरे में खड़ा कर रहे हैं. वीडियो में वो कहते सुनाई पड़ रहे हैं कि उन पर लग रहे सब आरोप बेबुनियाद हैं, उन्होंने कहा, ‘ये कहना कि मेरी वजह से आतंक फ़ैल रहा है ये मीडिया की शैतानी है’
 
 
क्या है पूरा मामला ?
बता दें कि नाईक उस वक्त जांच के घेरे में आए जब ढाका के चर्चित कैफे पर एक जुलाई को हमला करने वाले आतंकियों में दो नाईक के भाषणों से प्रेरित हुए थे. मारे गए आतंकियों में शामिल बांग्लादेश में सत्तारूढ़ अवामी लीग के नेता का बेटे रोहन इम्तियाज ने पिछले साल फेसबुक पर जारी एक संदेश में धर्म प्रचारक नाईक का हवाला दिया था, जिसमें नाईक ने कहा है, “सभी मुसलमानों से आतंकी बन जाने का आग्रह कर रहा हूं.”
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
कब-कब आया नाम
  1. 2009 में न्यूयोर्क के सबवे में फिदायीन हमले की साजिश रखने के आरोप में गिरफ्तार नजीबुल्ला जाजी के दोस्तों ने बताया कि वो काफी वक्त तक डॉ नाईक की तकरीरों को टीवी पर देखता था.
  2. 2006 में मुंबई की लोकल ट्रेनों में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों के मामले में आरोपी राहिल शेख भी डॉ. नाइक से प्रभावित था.
  3. 2007 में बैंगलोर का एक शख्स कफील अहमद ग्लासगो एयरपोर्ट को उडाने की कोशिश करते हुए घायल हो गया. जांच में पता चला कि जिन लोगों की बातों से वो प्रभावित था उनमें से डॉ जाकिर नाइक भी एक थे.
  4. यही नहीं हाल ही में हैदराबाद में गिरफ्तार आईएस के 5 लोगों का सरगना इब्राहीम यजदानी न सिर्फ डॉ जाकिर से प्रभावित था बल्कि 2010 में वो उनके कैंप में शामिल हुआ था.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App