कठुआः पहले बिहार फिर उत्तर प्रदेश और अब जम्मू-कश्मीर में मासूम बच्चों के साथ यौन शोषण का चौंकाने वाला मामला सामने आया है. कठुआ में अवैध रूप से चर्च से जुड़े एक हॉस्टल में पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर छापा मारा और वहां से 20 बच्चों को छुड़ाया. करीब दो घंटे चले तलाशी अभियान और बच्चों से पूछताछ के बाद जो जानकारी निकलकर सामने आई, उसके आधार पर पुलिस ने पादरी एंथनी को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है.

आरोपी पादरी एंथनी केरल का रहने वाला है. कठुआ शहर के बीचोंबीच पारलीवंड इलाके में चर्च के नाम पर बने अवैध हॉस्टल में नाबालिग बच्चों (लड़के-लड़कियों) के साथ यौन शोषण का घिनौना खेल पिछले काफी समय से चल रहा था. पिछले चार साल से यह हॉस्टल चल रहा था. बच्चे इलाके के सरकारी स्कूल में पढ़ते हैं और इस हॉस्टल में रहते थे. बच्चों का खाना-पीना, रहना सब मुफ्त था. जांच अधिकारी ने बताया कि छापे के बाद 8 लड़कियों और 12 लड़कों जिनकी उम्र 7 से 16 वर्ष है, को बाल आश्रम और नारी निकेतन शिफ्ट कर दिया गया है.

पुलिस ने बताया कि सभी बच्चे गरीबों परिवार से ताल्लुक रखते हैं और पंजाब, हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर के रहने वाले हैं. सरकारी स्कूल में मुफ्त शिक्षा और रहने, खाने-पीने के लालच में मां-बाप ने बच्चों को यहां भेजा था. अभी तक की जांच में सामने आया है कि पादरी बच्चियों को खाने में कुछ नशीला पदार्थ देकर उनका यौन शोषण कर रहा था. पुलिस ने जब पादरी से पूछा कि यह हॉस्टल किसकी मदद से चलाया जा रहा था तो उसने पेंटाकास्टल मिशन का नाम लिया. जब इस बारे में पेंटाकास्टल मिशन के अधिकारियों से बात की गई तो उन्होंने इससे साफ इनकार कर दिया. उन्होंने बताया कि उनकी कोई ब्रांच कठुआ में है ही नहीं. फिलहाल पुलिस ने सभी बच्चों के मां-बाप को सूचित कर दिया है. आरोपी पादरी से पूछताछ की जा रही है.

यूपी: 5 बच्चों के बाप ने खेत में किया नाबालिग से रेप, बिजनौर में तनाव के बाद भारी पुलिस फोर्स तैनात

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App