पटना. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पिछले दिनों गया में रोडरेज में मारे गए छात्र आदित्य सचदेवा के माता-पिता से शुक्रवार को मुलाकात की. शहर के गांधी मैदान में सभा को सम्बोधित करने से पहले नीतीश आदित्य सचदेवा के घर पहुंचे थे. उन्होंने यहां जाकर कहा कि मामले में पूरा न्याय होगा और आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. इस मामले में मुख्य आरोपी जनता दल (युनाइटेड) की नेता मनोरमा देवी का बेटा है. बता दें कि आदित्य सचदेवा की हत्या छह-सात मई की रात बोधगया रोड पर हुई झड़प के बाद गोली मार कर कर दी गयी थी.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
नीतीश ने क्या कहा?
आदित्य के माता-पिता ने बताया कि मुख्यमंत्री ने आश्वासन दिया है कि दोषियों पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने कहा कि कानून अपना काम कर रहा है, कानून से ऊपर कोई नहीं. अधिकारी ने कहा, “नीतीश कुमार ने माता-पिता को बताया कि मामले की पुलिस जांच सही राह पर है.” आदित्य के पिता श्याम सचदेवा भी पुलिस की कार्रवाई से सन्तुष्ट दिखे.
 
रॉकी ने कबूली है आदित्य की हत्या की बात
पुलिस के मुताबिक, रॉकी ने आदित्य की हत्या की बात कबूली है. रॉकी, उसके नेता पिता बिंदी यादव, बिंदी का बॉडी गार्ड राजेश कुमार व उसका रिश्ते का भाई तेनी यादव इस मामले में गया केंद्रीय कारागार में बंद हैं. बिंदी यादव का एक आपराधिक अतीत रहा है. ये सभी हत्यारोपी हैं.  रॉकी की मां मनोरमा देवी बिहार विधान परिषद (एमएलसी) की सदस्य हैं.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
क्या है मामला?
गया में मनोरमा का बेटा रॉकी यादव अपनी नई लैंड रोवर कार से कहीं जा रहा था. एक स्विफ्ट कार उसकी लैंड रोवर के आगे चल रही थी. रॉकी अपनी गाड़ी को उस कार से आगे ले जाने की कोशिश कर रहा था, लेकिन स्विफ्ट कार चला रहा ड्राइवर सामने जगह न होने की वजह से साइड नहीं दे पाया था. इसके बाद रॉकी ने किसी तरह स्विफ्ट को ओवरटेक करके रोक लिया था. स्विफ्ट कार में बैठे लड़कों और रॉकी के बीच बहस हुई थी. इसके बाद रॉकी ने स्विफ्ट पर गोली चला दी. इसमें आदित्य सचदेवा नाम के लड़के की मौत हो गई. इसके बाद रॉकी फरार हो गया था. पुलिस ने उसके पिता बिंदी यादव को बेटे को भागने में मदद करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया था. इसके बाद रॉकी को भी गिरफ्तार कर लिया गया.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App