लखनऊ. 2017 में होने वाले यूपी विधानसभा चुनाव से पहले सियासी पारा चढ़ने लगा है. जैसे-जैसे चुनाव करीब आ रहे है राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ती जा रही हैं. इसी के बीच बदले हालात में समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल के भी नज़दीकिया बढ़ने लगी हैं. रविवार को सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव के छोटे भाई शिवपाल सिंह यादव, आरएलडी अध्यक्ष अजित सिंह से मिलने उनके घर पहुंचे. इतना ही नहीं इसके बाद अजीत सिंह, मुलायम सिंह यादव से मिलने उनके घर पहुंचे.
 
इन दोनों की मुलाकात के बाद कयास लगाए जा रहे है कि दोनों पार्टियों के बीच आगामी विधानसभा चुनावों में गठबंधन हो सकता है. हालांकि जब शिवपाल सिंह बाहर निकले तो मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि इस मुलाकात में कुछ भी खास नहीं है. हम लोग अक्सर ही एक-दूसरे से मिलने आते हैं. सूत्रों के मुताबिक यह सारी कवायद राज्यसभा चुनाव से पहले हो रही है तो अजित सिंह ने समाजवादी पार्टी के सामने खुद को राज्यसभा भेजने की शर्त रखी है.
 
माना जा रहा है कि दोनों पार्टियों के गठबंधन होने पर अगर पश्चिमी उत्तर प्रदेश में आरएलडी का साथ मिल जाता है तो समाजवादी पार्टी इस क्षेत्र में एक मज़बूत राह पकड़ सकती है. वहीं पश्चिमी उत्तर प्रदेश को सपा का गढ़ नहीं माना जाता है.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App