नई दिल्ली: अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर मुद्दे पर आज राज्यसभा में रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा है कि इस बात में कोई शक नहीं है कि भ्रष्टाचार हुआ नहीं हुआ, पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी ने भी माना था कि भ्रष्टाचार हुआ है. पर्रिकर ने आगे कहा है कि डील में कई तरह की अनदेखी की गई थी. डील में एक ही वेंडर का नाम क्यों तय हुआ? जबकि डील के लिए तीन वेंडरों ने नाम तय किए गए थे. देश जानना चाहता है कि घूस की रकम किसे मिली. कांग्रेस कुतर्कों से झूठ को सच को झूठ साबित करने में जुटी है. पर्रिकर के बयान के बाद कांग्रेस ने राज्यसभा में जमकर हंगामा किया.
 
आनंद शर्मा ने दी सफाई
कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने राज्यसभा में कहा है कि कांग्रेस को बिना वजह घसीटा जा रहा है, सबसे पहले सरकार जांच सामने लाए. उन्होंने कहा कि सरकार अपनी नाकामी छिपाने के लिए अगस्ता मामले को तूल दे रही है. उन्होंने कहा कि रक्षा डील में वक्त लगना स्वभाविक है. उन्होंने कहा कि यूपीए को गैर-जिम्मेदार तरिके से घेरा जा रहा है साथ ही कांग्रेस का नाम बदनाम किया जा रहा है. 
 
स्वामी ने लगाए आरोप
बीजेपी सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कांग्रेस की तत्कालीन यूपीए सरकार पर ताबड़तोड़ हमले किए. स्वामी ने ऑगस्ता घोटाले पर बोलते हुए कहा कि यूपीए सरकार में जानबूझकर नियमो को तोड़ा-मरोड़ा गया. उन्होंने कहा कि नेवी का अकेला अधिकारी इतना बड़ा घोटाला नहीं कर सकता है. स्वामी ने कहा कि इटली में जिन लोगों ने सौदे के लिए घूस दी वे जेल में हैं. कंपनी को ब्लैकलिस्ट करने की प्रक्रिया इस सरकार में शुरू हुई है. 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App