नई दिल्ली. पश्चिम बंगाल के मिदनापुर में पीएम नरेंद्र मोदी की रैली के दौरान टेंट गिरने की घटना पर केंद्र की ओर से रिपॉर्ट जारी कर दी गई है. जिसमें तृणमूल कांग्रेस की सरकार यानी ममता बनर्जी की सरकार को जिम्मेदार ठहराया गया है. केंद्र की ओर से सामने आई रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली के वक्त रैली स्थल के पांच किमी तक पुलिस तैनात नहीं थी साथ ही एसपीजी को भी पूरी तरह से सहायता नहीं प्रदान करवाई गई.

जांच कमेटी ने इस रिपोर्ट को गृह मंत्रालय में जमा कर दिया है. रिपोर्ट में लिखा गया है कि पीएम मोदी का जिस स्थल पर रैली आयोजित करवाई गई उस टेंट की सही से जांच नहीं हुई थी. टेंट लगाने में लापरवाही थी, टेंट के खंबों में चार स्क्रू की जगह एक स्क्रू लगे थे. इस पंडाल को तैयार करने में जिन लोहे के पाइपों का इस्तेमाल किया गया था उनमे जंग लगा हुआ था.

हालांकि मीडिया ने जब राज्य सरकार के अधिकारियों के साथ बातचीत करने की कोशिश की तो स्थानीय अधिकारियों ने टीम के निष्कर्षों को खारिज कर दिया. स्थानीय अधिकारियों ने कहा था कि पीएम मोदी की रैली के लिए 1,000 कर्मियों को नियुक्त किया था. एडवांस सिक्योरिटी दी गई थी. गौरतलब है कि 17 जुलाई को पश्चिम बंगाल के मिदनापुर में हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली के दौरान पंडाल गिरने की वजह से भगड़दड़ मच गई थी, जिस घटना में तकरीबन 90 लोग घायल हुए थे. बताया जा रहा था कि इस घटना की वजह से कई लोगों की जान ले लेती.

असम: NRC का झोल आया सामने, 30 साल सेना को देने वाले मोहम्मद ए हक का नाम फाइनल ड्राफ्ट से गायब

राहुल गांधी और सोनिया गांधी से मिलीं ममता बनर्जी, कहा- 2019 लोकसभा चुनावों में पीएम उम्मीदवार नहीं

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App