नई दिल्ली. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ऑड-ईवन को लेकर मंगलवार को पब्लिक मीटिंग की. मीटिंग में केजरीवाल ने कहा कि यह नियम दुपहिया वाहनों पर लागू नहीं किया जा सकता. केजरीवाल ने कहा, ‘दिल्ली में लाखों दुपहिया वाहन हैं. अगर इन पर यह नियम लागू कर दिया गया तो ट्रांसपोर्ट में समस्या आ जाएगी’.
 
केजरीवाल ने पब्लिक ट्रांसपोर्ट पर बात करते हुए कहा कि जब तक पब्लिक ट्रांसपोर्ट में सुधार किए बिना ऑड-ईवन नियम दुपहिया वाहनों में लागू करने से सड़कों पर पूरी तरह से अराजकता फैल जाएगी. अफरातफरी मच जाएगी. उन्होंने लोगों की इस धारणा को गलत कि आम आदमी पार्टी वोट बैंक के लिए दुपहिया वाहनों को इस नियम से बाहर रख रही है. केजरीवाल ने कहा, ‘दुपहिया वाहनों को इसलिए अलग नहीं रखा गया क्योंकि ये गरीबों के वाहन हैं. कारण यह है कि जब हमने सम-विषम के पहले चरण के आंकड़ों का विश्लेषण किया तो हमने देखा कि मेट्रो व बसों में चढ़ने वालों की संख्या केवल 0.7 फीसद और पांच फीसद ही बढ़ी. जिन लोगों ने अपनी कार छोड़ी वे कार पूलिंग करने लगे’.
 
लोगों की परेशानी पर ध्यान दे सरकार: टीएस ठाकुर
दिल्ली में ऑड-ईवन से इस बार लोगों को रही परेशानी पर चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया टीएस ठाकुर ने केजरीवाल सरकार से ध्यान देने की बात कही. उन्होंने कहा कि सरकार को लोगों की पेरशानी दूर करना चाहिए. ठाकुर ने कहा, ‘अगर लोगों को ऑड-ईवन से परेशानी हो रही है तो सरकार को इस मामले पर ध्यान देना चाहिए’. 
 
 
उन्होंने कहा कि दिल्ली में प्रदूषण का स्तर काफी बढ़ गया है. लोगों को यह बात समझने की जरूरत है ताकि प्रदूषण कम किया जा सके. ठाकुर ने कहा, ‘शहर में प्रदूषण लगातार बढ़ता जा रहा है. सबको मिल कर कोशिश तो करनी चाहिए ताकि यह शहर प्रदूषण मुक्त रहे’.

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App