नई दिल्ली. खाद्य मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में जल बोर्ड का पानी पीने लायक नहीं है. यहां घरों में सप्लाई होने वाला पानी निर्धारित मानकों पर खरा नहीं है. शुध्द पानी पीने का अधिकार सबको है इसलिए इसकी अवेहला करने वालों के खिलाफ सरकार सख्त कदम उठाने की तैयारी कर रही है.

केंद्रीय उपभोक्ता संरक्षण परिषद (सीसीपीसी) की बैठक में हुई चर्चा में यह मुद्दा जोरशोड़ से उठाया गया. उपभोक्ता मामलों में शीर्ष संस्था सीसीपीसी की बैठक में विभिन्न सरकारी संगठन, विभिन्न मंत्रालयों के साथ गैर सरकारी संगठनों को भी बुलाया गया था.

पासवान ने कहा कि वर्ष 1977 में जब वह दिल्ली आए थे तो नल से आने वाला पानी ही पीते थे. लेकिन अब पानी की क्वालिटी इतनी खराब है कि उसका उपयोग संभव नहीं है. पानी की क्वालिटी जांचने का काम भी खाद्य संरक्षा व मानक प्राधिकरण (एफएसएसआई) के दायरे में लाया जाएगा. कोई भी उपभोक्ता दूषित पानी की शिकायत कर सकता है. बैठक में कहा गया कि शहर में गुणवत्ता वाले पानी की आपूर्ति की जिम्मेदारी दिल्ली जल बोर्ड और नगर निगमों की है.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App