नई दिल्ली. कोहिनूर हीरे को वापस लाने पर केंद्र सरकार ने बयान दिया है. सरकार का कहना है कि लोगों को कोहिनूर पर उम्मीद नहीं छोड़नी चाहिए क्योंकि वह उसे वापस लाने की हर कोशिश करेगी.  इस मामले पर केंद्र सरकार ने विज्ञप्ति जारी कर कहा कि वे कोहिनूर को फिर से लाने के लिए हर मुमकिन कोशिश करेगी. 
 
अपने बयान में सरकार ने देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू का जिक्र करते हुए कहा कि कोहिनूर वापस लाने पर तो नेहरू ने ही 1956 में ऑन रिकॉर्ड कहा था कि यह दोबारा लाना संभव नहीं है. कोहिनूर को वापस लाने में कई दिक्कतें आएंगी.
 
बता दें कि कोहिनूर हीरे को वापस लाने को लेकर जनहित याचिका के सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार ने यह साफ कर दिया था कि वह हीरे की वापसी की मांग नहीं कर सकते.
 
सरकार ने दलील देते हुए कहा कि इसे उपहार के रूप में ब्रिटेन को दिया गया था. वहीं सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से 6 हफ्ते के भीतर एक हलफनामा दायर इस मामले पर जवाब मांगा है.
 
इसके अलावा केंद्र सरकार की ओर से कोर्ट में पेश हुए सॉलीसिटर जनरल ने यह साफ कर दिया कि यह दलीलें उनकी नहीं है, बल्कि वह संस्कृति मंत्रालय की रिपोर्ट को पढ़कर सुना रहे हैं.
 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App