गांधीनगर. आरक्षण की मांग और पाटीदार नेता हार्दिक पटेल की रिहाई को लेकर पाटीदार समाज के लोगों ने आंदोलन किया. इस पर गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदी बेन पटेल ने बयान दिया कि कैसा आंदोलन, ऐसे आंदोलन होते रहते हैं. 
 
आनंदी बेन का विरोध करते हुए कांग्रेस के सांसद शकील अहमद ने कहा कि पूरे देश में अराजकता का माहौल है, गुजरात में हिंसा हुई हैं और आनंदी बेन बोलती हैं कि कैसा आंदोलन है, यह असंवेदनशीलता है.
 
देशभर में चल रहे विरोधों को अहमद ने गिनवाते हुए कहा कि जम्मू कश्मीर में एक हफ्ते से उबाल है और 5 लोगों की मौत हो गई हैं. इस बीच शकील ने हरियाणा आरक्षण का मुद्दा उठाया और कहा कि यह मुद्दा बीजेपी और राज्य सरकार ने मिलकर हालात खराब किए हैं ताकि उनकी नाकामी किसी के सामने न आए. शकील ने आगे कहा कि दुनिया में इंडिया से ज्यादा कोई देश असहिष्णु नहीं है और हम बीजेपी और आरएसएस को असहिष्णु बोलते हैं.
 
इशरत जहां मामले में चले वाद विवाद पर शकील ने कहा कि चिदंबरम को जो करना चाहिए था उन्होंने किया लेकिन मोदी जी ने मामले को मीडिया में लीक करके उसका रूख ही बदल दिया. वहीं पंकजा मुंडे ने सेल्फी ली तो उसमें गलत क्या है सेल्फी तो देश के पीएम से लेकर मुखिया तक लेते हैं.
 
क्या है मामला?
बता दें कि गुजरात में पाटीदार आरक्षण आंदोलन फिर हिंसक हो गया। रविवार को जेल भरो आंदोलन के दौरान पाटीदार कम्युनिटी के हजारों लोग महेसाणा पहुंचे और इसी दौरान भीड़ ने पथराव किया.
 
लाठीचार्ज में सरदार पटेल ग्रुप के प्रेसिडेंट लालजी पटेल जख्मी हो गए. पाटीदार, हार्दिक पटेल को जेल से रिहा करने की मांग कर रहे हैं. 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App