कोलकाता. पश्चिम बंगाल में सोमवार सुबह कड़ी सुरक्षा के बीच विधानसभा चुनाव के लिए पहले चरण में 18 निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान शुरू हो गया. ये निर्वाचन क्षेत्र राज्य के तीन जिलों पश्चिमी मिदनापुर, बांकुरा व पुरुलिया में आते हैं. विधानसभा चुनाव के पहले चरण में जिन 18 निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान चल रहा है, उनमें से नौ पुरुलिया, तीन बांकुरा और छह पश्चिम मिदनापुर में पड़ते हैं. वामपंथी उग्रवाद (एलडब्ल्यूई) प्रभावित 13 निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान दो घंटे पहले यानी शाम चार बजे खत्म हो जाएगा. 
 
133 उम्मीदवारों पर दांव
पहले चरण में मतदान में 16 किन्नरों सहित 40,09,171 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे. इन चरण में 133 उम्मीदवारों की साख दांव पर है. 294 विधानसभा सीटों के लिए छह चरणों में सात मतदान दिवसों में हो रहे विधानसभा चुनाव पांच मई को संपन्न होंगे. मतदान की अन्य छह तारीखें 11, 17, 21, 25 व 30 अप्रैल और पांच मई है. 
 
18 सीटों पर मतदान शुरू
पश्चिम बंगाल में 18 और असम में 65 सीटों के लिए सोमवार को सुबह 7 बजे मतदान शुरू हो गया. पहले चरण के मतदान से पहले असम में बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार सर्बानंद सोनोवाल ने अपने चुनाव क्षेत्र माजुली के मंदिर में विशेष पूजा की.
 
बंगाल में भ्रष्टाचार चुनावी मुद्दा
बंगाल में भी वोटिंग से पहले 8.05 करोड़ रुपये जब्त किए जा चुके हैं. इस बारे के चुनावों में भ्रष्टाचार मुख्य मुद्दा बना हुआ है. तृणमूल कांग्रेस शासित बंगाल में ‘लोकतंत्र की बहाली’ के अलावा कांग्रेस-वाम मोर्चा गठबंधन ने शारदा घोटाले और नारद स्टिंग ऑपरेशन के रूप में भ्रष्टाचार को मुख्य चुनावी मुद्दा बनाया है. गौरतलब है कि शारदा घोटाले में लाखों निवेशकों के पैसे डूब गए थे, जबकि नारद स्टिंग ऑपरेशन में टीएमसी के कुछ नेताओं को घूस लेते हुए दिखाया गया है.
 
ममता ने दर्ज की थी ऐतिहासिक जीत
पांच साल पहले तृणमूल कांग्रेस ने कांग्रेस और सोशलिस्ट यूनिटी सेंटर ऑफ इंडिया (कम्युनिस्ट) के साथ गठबंधन कर ऐतिहासिक जीत हासिल करके 34 साल पुराने वाम मोर्चा का शासन समाप्त कर दिया था. उस समय तृणमूल को 184, वाम मोर्चा को 62 और कांग्रेस को 42 सीटों पर जीत हासिल हुई थी. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) अपना खाता खोलने में भी नाकाम रही थी, जबकि अन्य पार्टियों और निर्दलीय उम्मीदवारों ने छह सीटों पर कब्जा जमाया था. इस प्रकार राज्य को ममता के रूप में पहली महिला मुख्यमंत्री मिली थी.