नासिक. देश के बड़े मंदिरों में महिलाओं के प्रवेश को लेकर एक बड़ा मोड़ सामने आया है. रविवार को त्रयम्बकेश्वर मंदिर ट्रस्ट ने मीटिंग बुलाई जिसमें एक बड़ा फैसला लिया गया है.
 
रिपोर्ट्स के मुताबिक महिलाओं की तरह गर्भ गृह में पूजा करने या दर्शन के लिए पुरुष भी नहीं जा सकेंगे. ट्रस्ट ने इसे बंद करने पर कहा है कि गर्भ गृह में जगह बहुत कम है जिसके कारण अगर अधिक भीड़ हुई तो लोगों को तकलीफ़ हो सकती है. मंदिर की बनावट को ध्यान में रखकर ऐसा फ़ैसला लिया गया है. बता दें कि पुरुष सुबह 6 बजे से 7 बजे तक यहां पूजा करने जाते थे
 
भूमाता ब्रिगेड ने किया था विरोध
शनि शिंगणापुर में विरोध कर रही महिलाओं के संगठन ने त्रयम्बकेश्वर मंदिर की परंपरा पर भी विरोध किया था. महिलाओं ने मांग रखी है कि गर्भ गृह में पुरुषों की तरह महिलाओं को भी जाने दिया जाए.
 
मामले की गंभीरता को देखते हुए बॉम्बे हाईकोर्ट ने फैसला दिया था कि महिलाओं को बराबर अधिकार दिए जाने चाहिए. जानकारियों के अनुसार कोर्ट के इस फैसले के बाद ट्रस्ट ने यह फैसला लिया है.