इस्लामाबाद. पठानकोट हमले की जांच के लिए पाकिस्तान से भारत आई संयुक्त जांच दल (जेआईटी) की टीम का कहना है कि भारत पठानकोट हमले से जुड़े सबूत उपलब्ध कराने में नाकामयाब रहा. मीडिया में आई रिपोर्टस के मुताबिक टीम से जुड़े एक दल ने भारत पर आरोप लगाते हुए कहा है कि भारत पठानकोट पर हुए हमले के पीछे पाकिस्तान बेस्ड आतंकी संगठन के हाथ होने से जुड़े पर्याप्त सबूतों को उपलब्ध कराने में नाकामयाब रहा.
 
पाकिस्तान से आए जांच दल के सदस्यों ने 29 मार्च को भारत की राष्ट्रीय जांच एजेंसी के सदस्यों के साथ पठानकोट वायुसेना अड्डे का 55 मिनट का दौरा किया. पाकिस्तानी जांच दल को वायुसेना अड्डे के अंदर एक मुख्य द्वार के बजाए उससे सटे एक छोटे रास्ते से अंदर ले जाया गया. जहां उन्होंने महज 55 मिनट गुजारे. बता दें कि इतने कम समय में वायुसेना अड्डे का महज एक चक्कर लगाया जा सकता है. 
 
जायजे में उन्हें आतंकवादियों द्वारा प्रयोग किए गए रास्तों और उनके द्वारा वायुसेना अड्डे के अंदर घुसने के रास्तों को दिखाया गया. जानकारी है कि इस निरिक्षण के दौरान टीम कोई ठोस सबूत इकट्ठा नहीं कर सकी.
 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App