नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन से रिश्ते बेहतर बनाने के लिए ट्रैक 2 डिप्लोमेसी के तहत एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल चीन भेजने का निर्णय लिया है. बीजेपी नेता डॉ सुब्रमण्यम स्वामी के नेतृत्व में यह दल 12 जून को बीजिंग जाएगा.

चीन की तरफ से संयुक्त राष्ट्र संघ में वांटेड आतंकवादी मौलाना मसूद अज़हर की गिरफ़्तारी का विरोध करने पर भारत की चिंताएं बड़ा दी है. प्रधानमंत्री चीन और पाकिस्तान के बीच में हो रही गोलबंदी को रोकने की कोशिशो में लगे है.

12 जून को भारत का एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधि मंडल डॉ सुब्रमण्यम स्वामी के नेतृत्व में चीन जाएगा. इंडिया न्यूज़ के साथ हुई बातचीत में बीजेपी नेता डॉ सुब्रमण्यम स्वामी ने केंद्र सरकार को चीन से बात करने की सलाह दी है और उसकी चिंताओं आशंकाओ को दूर करने को कहा है.

प्रधानमंत्री मोदी ने भी चीन के साथ ट्रेक 2 डिप्लोमेसी के दरवाजे खोल दिए है. पाकिस्तान और चीन का गठजोड़ भारत के लिए खतरा बन सकता है. पाकिस्तान से पठानकोट हमले की जांच के लिए आई जेआईटी की टीम को आने देने को निर्णय को स्वामी ने सही ठहराया है.

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App