नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2014 लोकसभा चुनाव के प्रचार के दौरान कालेधन का मुद्दा जोर-शोर से उठाया था. एक रैली के दौरान उन्होंने यह भी कहा था कि विदेशों में इतना कालाधन है कि अगर उसे वापस लाया जाए तो हर भारतीय के खाते में 15-20 लाख रुपये ऐसे ही आ जाएंगे. 2019 के लोकसभा चुनाव में अब ज्यादा वक्त नहीं बचा है और विपक्ष इसे लेकर लगातार मोदी सरकार को घेरती रही है. इस बीच नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री रामदास अठावले ने कहा कि लोगों के खाते में धीरे-धीरे 15 लाख रुपये आएंगे. मोदी सरकार में अठावले केंद्रीय सामाजिक न्याय मंत्री हैं.

महाराष्ट्र के सांगली जिले के इस्लामपुर में उन्होंने कहा कि सरकार ने हर शख्स के खाते में 15 लाख रुपये जमा करने का वादा किया था, लेकिन इतनी बड़ी राशि मोदी सरकार के पास नहीं है. उन्होंने कहा कि सरकार यह राशि रिजर्व बैंक से मांग रही है, लेकिन वह दे नहीं रहे हैं. उन्होंने कहा, इसमें कई तकनीकी समस्याएं हैं, जो एक साथ नहीं हो सकता. मगर धीरे-धीरे हो जाएगा.

साल 2016 में एक जनहित याचिका में पूछा गया था कि लोगों के खाते में 15 लाख रुपये कब तक आएंगे. इसके कुछ वक्त बाद केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि सरकार ने ऐेसा कोई वादा किया ही नहीं और वह सिर्फ एक जुमला था. उनके इस बयान के बाद विपक्ष ने मोदी सरकार को जुमलेबाज सरकार भी कहा था. अठावले ने यह भी कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी और शिवसेना को साथ लड़ना चाहिए और चुनाव से पहले ही सीटों का बंटवारा हो जाना चाहिए. 

Rahul Gandhi Attacks Narendra Modi: राहुल गांधी की हुंकार, बोले- जब तक किसानों का कर्ज माफ नहीं करेंगे, पीएम नरेंद्र मोदी को चैन से सोने नहीं देंगे

Bhupesh Baghel Chhattisgarh Farmers loan waved off: मध्य प्रदेश के बाद छत्तीसगढ़ के नए सीएम भूपेश बघेल ने भी किया किसानों का कर्जा माफ