नई दिल्ली. पीएम नरेंद्र मोदी ने सेतु भारतम परियोजना लॉन्च कर दिया है. पीएम ने इस परियोजना की शुरुआत विज्ञान भवन में एक कार्यक्रम के दौरान की. इस प्रोजेक्टज के तहत साल 2019 तक सभी राष्ट्रीय राजमार्गो को रेलवे क्रॉसिंग से मुक्त बनाने की योजना है. इस परियोजना पर 10,200 करोड़ रुपये खर्च होने की उम्मीद है. इस योजना के तहत करीब 208 स्थानों पर रेलवे ओवर ब्रिज बनाया जाएगा. यही नहीं इसके लिए कई जगहों पर अंडरपास दिए जा सकते हैं. इसके अलावा पुराने पुलों को हटाने के लिए 1500 नए पुलों का निर्माण करने का भी प्रस्ताव है.
 
2019 तक रेलवे क्रॉसिंग मुक्त का लक्ष्य
प्रोजेक्टन लॉन्च करने के बाद पीएम मोदी ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि 2019 तक देश के सभी हाईवे को रेलवे क्रॉसिंग मुक्तप के साथ ही अंग्रेजों के जमाने में बने पुलों को फिर से बनाया जाएगा. पीएम ने यह भी कहा कि रेलवे एक महत्वपूर्ण विभाग है. रेलवे के इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास के बारे में भी चर्चा करते हुए कहा कि इसका विकास और इंफ्रास्ट्रक्चर का विकास आवश्यक है.
 
‘तालियां बजाने से नहीं मिलेगी कामयाबी’
रेलवे के विकास पर जोर देते हुए पीएम ने कहा कि पहले सिर्फ सांसदों को खुश करने के लिए रेल प्रोजेक्ट शुरू किए जाते थे. सिर्फ तालियां बजाने से कामयाबी नहीं मिल जाएगी, इसके लिए जमीनी स्तर पर काम करना होगा. उन्होंने यह भी कहा कि हम समस्याओं को जानते हैं और मजबूती के साथ उन्हें खत्म करने का प्रयास कर रहे हैं.
 
डिजिटल प्रणाली को विकसित करने पर जोर
मोदी ने आगे यह भी बताया कि सड़क के अलावा रेल, पानी और बिजली जैसी मूलभूत सुविधाओं के विकास पर भी ध्यान देने की जरूरत है. मोदी ने बताया कि सरकार डिजिटल प्रणाली को विकसित करने के प्रयास कर रही है. साथ ही उसी तरह से कृषि क्षेत्र का विकास भी सरकार की प्राथमिकता है. ग्रामीण क्षेत्रों में सड़कों के विकास को प्राथमिकता देने का संकल्प दोहराते हुए उन्होंने कहा ‘‘हमें गांव में रहने वाले लोगों की सुविधाओं पर भी ध्यान देना है और देखना है कि सड़कें उनको किस तरह से मदद पहुंचा सकती हैं.’’

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App