नई दिल्ली. पठानकोट एयरबेस पर हुए आतंकी हमले के मास्टरमाइंड और जैश-ए- मोहम्मद के चीफ मसूद अजहर को भारत वैश्विक प्रतिबंध लगवाने की कोशिशों में जुट गया है. अजहर पर वैश्विक प्रतिबंध के लिए भारत अब संयुक्त राष्ट्र का रुख करेगा. उम्मीद यह भी लगाई जा रही है कि आने वाले दिनों में भारत को इसमें भी सफलता हासिल हो जाएगी.
 
इस बात की जानकारी देते हुए विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा कि  हम प्रतिबंध समिति के सामने अपनी बात रखेंगे और मांग करेंगे की प्रतिबंध की सूची में मसूद अजहर का नाम भी शामिल किया जाए. 
 
विकास स्वरूप ने कहा कि  यह दुर्भाग्य की बात है कि जैश ए मोहम्मद इस सूची में है लेकिन इसका मुखिया इन प्रतिबंधों की सूची में शामिल नहीं किया गया है. उन्होंने बताया कि भारत पहले ही संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबंध समिति को उन 11 आतंकियों की सूची सौंप चुका है. जिसमें अलकायदा, तालिबान और दूसरे संगठनों से संबंधित पाकिस्तान आधारित समूह के आतंकी शामिल हैं.
 
रिपोर्ट के मुताबिक, भारत इससे पहले भी मसूद के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र जा चुका है. संयुक्त राष्ट्र ने 2001 में जैश ए मोहम्मद को प्रतिबंधित किया था. लेकिन सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्य चीन की असहमति की वजह से मसूद अजहर पर प्रतिबंध नहीं लग सका था. 
 
बता दें कि भारत में आतंकवाद से जुड़े 11 व्यक्तियों और एक संगठन की सूची 18 फरवरी को आईएस एवं अलकायदा प्रतिबंध समिति को सौंपी गई थी.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App