नई दिल्ली. जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) परिसर में आयोजित कार्यक्रम की जांच के लिए यूनिवर्सिटी प्रशासन द्वारा गठित कमेटी में दो और शिक्षकों को शामिल कर उसे बड़ा किया गया है. जेएनयू विवाद अंतर्राष्ट्रीय मीडिया में भी सुर्खियों में है.
 
जेएनयू की जनसंपर्क अधिकारी पूनम कुदेसिया ने बताया कि भाषा, साहित्य और संस्कृति अध्ययन स्कूल के प्रोफेसर जी.एल.वी प्रसाद और अंतर्राष्ट्रीय अध्ययन स्कूल के प्रोफेसर उम्मू सलमा बावा भी उच्चस्तरीय जांच कमेटी के सदस्य होंगे.
 
कमेटी का गठन परिसर में संसद हमले में दोषी अफजल गुरु की फांसी की तीसरी बरसी पर उसकी याद में नौ फरवरी को आयोजित कार्यक्रम की जांच के लिए किया गया है. उस कार्यक्रम के दौरान देश विरोधी नारे लगाए गए थे.
 
इस जांच कमेटी ने अपनी रिपोर्ट देने के लिए सोमवार को एक हफ्ते समय बढ़ाने की मांग की थी. अब यह कमेटी तीन मार्च को अपनी रिपोर्ट सौंपेगी। तीन प्रोफेसरों वाली कमेटी का गठन 10 फरवरी को किया गया था.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App