नई दिल्ली. इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फार स्ट्रेटजिक स्टडीज (आईआईएसएस) के जमीन पर होने वाले युद्ध के विशेषज्ञ ब्रिगेडियर (अवकाश प्राप्त) बेन बेरी का कहना है कि पाकिस्तान, भारत की सैन्य क्षमताओं को लेकर चिंतित है. आईआईएसएस के वार्षिक प्रकाशन ‘द मिलिट्री बैलेंस’ को जारी करने के अवसर पर बेरी ने कहा, “पाकिस्तान, भारत के आधुनिकीकरण और अमेरिका के साथ इसके परमाणु करार को लेकर चिंतित है.” लेकिन, उन्होंने साफ किया कि इस चिंता का मौजूदा मोदी सरकार के किसी काम से कोई संबंध नहीं है. 
 
पाक से ज्यादा भारत के पास हैं फौजी
बेरी ने कहा, “पाकिस्तान की परंपरागत सेना खुद को बेहतर आंकती है (भारत से युद्ध की हालत में) लेकिन संख्या की दृष्टि से खुद को कमतर पाती है.” उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी सेना देश के अंदर के सशस्त्र गुटों से लगातार संघर्ष की वजह से लड़ाई के लिए मजबूत हो चुकी है. आईआईएसएस के मुताबिक पाकिस्तानी सेना में 5,50,000 फौजी हैं जबकि भारत के पास 1,150,900 फौजी हैं. 
 
भारत से ज्यादा चीन के पास हैं मिसाइल
‘द मिलिट्री बैलेंस’ में कहा गया है कि प्रक्षेपास्त्रों के शोध और विकास के मामले में चीन ने काफी अच्छी प्रगति की है. चीन के पास 62 अंतरमहाद्वीपीय मिसाइल्स हैं जबकि भारत के पास एक भी नहीं है. चीन के पास मध्यम दूरी के 80 मिसाइल हैं. पाकिस्तान के पास 30 और भारत के पास 12 मध्यम दूरी तक मार करने वाले मिसाइल हैं. भारत के पास कम दूरी तक मार करने वाले 42 मिसाइल हैं. पाकिस्तान के पास ऐसे मिसाइलों की संख्या 30 है. लेकिन, चीन के पास कम दूरी तक मार करने वाला एक भी मिसाइल नहीं है.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App