नई दिल्ली. दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्रों के एक समूह ने संस्थान की तरफ से आयोजित किए जा रहे एक कार्यक्रम में योग गुरू रामदेव को प्रमुख वक्ता के तौर पर आमंत्रित करने के फैसले का विरोध किया है.

छात्रों ने इस कदम को संस्थान पर ‘दक्षिणपंथ का एक मूक हमला’ करार देते हुए जेएनयू के अधिकारियों से ‘22वें इंटरनेशनल कांग्रेस ऑफ वेदांता’ में शामिल होने के लिए योग गुरू को दिया गया अपना आमंत्रण वापस लेने के लिए कहा है.

छात्रों ने ऐसा नहीं करने पर विरोध प्रदर्शन का सामना करने को कहा है. सम्मेलन का आयोजन 27 से 30 दिसंबर तक होना है. बता दें कि कार्यक्रम में रामदेव को 30 दिसंबर को संबोधन के लिए बुलाया गया है.

जेएनयू छात्र संघ उपाध्यक्ष शहला राशिद शोरा ने कहा कि जेएनयू जैसे प्रतिष्ठित शिक्षा संस्थान को इस तरह के लोगों को एक शैक्षणिक सभा को संबोधित करने के लिए नहीं बुलाना चाहिए, जिनकी पृष्ठभूमि पर सवालिया निशान हैं. 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App