नई दिल्ली. देश में आतंकी हमले के खतरे के बीच दिल्ली पुलिस ने पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई से जुड़े दो एजेंट को गिरफ्तार किया है. सूत्रों मुताबिक इनमें से एक अब्दुल राशीद बीएसएफ के इंटेलिजेंस विंग में हेड कांस्टेबल पद पर तैनात है.
 
एसीपी केपीएस मलहोत्रा के नेतृत्व में क्राइम ब्रांच की टीम ने कैफइतुल्लाह खान उर्फ मास्टर राजा और अब्दुल राशीद नाम के दो पाकिस्तानी एजेंट को गिरफ्तार किया है. इनमें मास्टर राजा जम्मू-कश्मीर के रजौरी का रहने वाला है.
 
कैसे आए आईएसआई के संपर्क में?
कैफइतुल्लाह पाकिस्तान इंटेलिजेंस ऑपरेटिव (पाआईओ) का हैंडलर बताया जा रहा है. 26 नवंबर को कैफइतुल्लाह ने जम्मू से भोपाल के लिए ट्रेन पकड़ी थी. खुफिया सूचना के आधार पर उसे रेलवे स्टेशन पर ही गिरफ्तार कर लिया गया.
 
पूछताछ में उसने बताया कि वह 2013 में पाकिस्तान गया था और इसी दौरान आईएसआई के संपर्क में आया था. वह रजौरी में एक स्कूल के अंतर्गत लाइब्रेरी असिस्टेंट का काम करता है. पाकिस्तान यात्रा के दौरान आईएसआई ने उसे पैसों का लालच दिया था, जिसके एवज में उसने खुफिया जानकारी पड़ोसी मुल्क को सौंपने का करार किया. 
 
इससे पहले कोलकाता पुलिस ने पाकिस्तान के लिए कथित तौर पर जासूसी करने के आरोप में कोलकाता पुलिस के विशेष कार्य बल (एसटीएफ) ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया है. मेरठ में भी एक को इस आरोप में गिरफ्तार किया गया है.
 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App