नई दिल्ली. पाकिस्तान ने भारतीय सीमा पर एक बार फिर नापाक हरकतों को अंजाम देना शुरु कर दिया है. लेकिन इसकी वजह भी किसी से छुपी नहीं है. दरअसल पांच महीने बाद पाकिस्तान में आम चुनाव होने हैं जिसमें आतंकी सरगना हाफिज सईद भी जोर आजमाइश कर रहा है. दूसरी ओर पाकिस्तानी सेना को भी सत्ता की लगाम अपने पास रखनी है और ऐसे में उसे एक ही तरीका समझ आता है कि भारत के साथ तनाव को बढ़ा दिया जाए. अपने इसी मंसूबे के लिए पाक सेना ने शनिवार को सीमा पर घात लगाकर हमला किया था जिसमें भारतीय सेना के एक मेजर समेत कुल 4 जवान शहीद हो गए थे.इसका मुंहतोड़ जवाब देते हुए भारतीय सेना की एक छोटी सी टुकड़ी ने पाकिस्तान के रावलकोट में सीमा पार कर के एक ऑपरेशन को अंजाम दिया.

पीओके के रखचकरी सेक्टर में सेना ने पाकिस्तान के तीन सैनिकों को मार गिराया और अपने चार साथियों की शहादत का बदला ले लिया. सोमवार की सुबह भारत की स्पेशल फोर्स के जवानों ने पीओके में आईईडी बॉम्ब लगा दिए थे जिसके जरिए इस ऑपरेशन को अंजाम दिया गया. सीमा पर मुंह की खाने के बाद पाकिस्तान कूटनीतिक बदतमीजी पर उतर चुका है. ऐसा ही कुछ देखने को मिला जब सोमवार को पाकिस्तान में कैद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को उनकी मां औप पत्नी से मिलाने के नाम पर भद्दा मजाक किया गया. दरअसल ये मुलाकात कुछ इस तरह कराई गई कि कुलभूषण जाधव की मां उन्हें गले तक नहीं लगा सकीं. क्योंकि दोनों के बीच शीशे की दीवार थी. पाकिस्तान के इस रवैये पर सवाल उठता है कि क्या पाकिस्तान कभी बाज आएगा. इसी मुद्दे पर आज इंडिया न्यूज के शो महाबहस में चर्चा की गई.