नई दिल्ली. राजनीति में काठ की हांडी भी बार बार चुनावी चुल्हे पर चढ़ाई जाती है ये बात गुजरात के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने साबित कर दी. 2014 में हरियाणा में जाटों और महाराष्ट्र में मराठों को आरक्षण देकर हाईकोर्ट और जनता की अदालत में कांग्रेस मात खा चुकी है फिर भी वह गुजरात में पाटीदार आरक्षण का कार्ड खुलकर खेल रही है. पिछले सवा दो साल से गुजरात में आरक्षण के लिए आंदोलन कर रहे पाटीदोरों के यूवा नेता हार्दिक पटेल को पटाने के लिए कांग्रेस ने जो आसवासन दिया तो हार्दिक ने उसका स्वागत किया.भाजपा को हराने की हुंकार भरने वाले हार्दिक पटेल ने आज ऐलान किया कि कांग्रेस पाटीदारों को आरक्षण देने के लिए तैयार हैं.

हार्दिक ने कहा कि कांग्रेस ने पाटीदारों के आरक्षण के लिए जिस तरह सहयोग किया है वो गुजरात के लोगों के लिए अच्छा है. हार्दिक ने कहा कि मुझे पता है लोग मुझे ऐजेंट बुलाते हैं, हां मैं जनता का ऐजेंट हूं. हार्दिक पटेल और कांग्रेस की डील काफा दिनों से लटकी हुई थी. और अब कांग्रेस के आरक्षण दिलाने के प्रस्ताव का उन्होंने स्वागत किया है.

हालांकि हार्दिक ने कहा है कि वे कांग्रेस में शामिल नहीं होंगे. दरअसल हार्दिक अभी खुद बड़ी मुसीबत से जूझ रहे हैं. उनकी सेक्स सीडी जारी होने के बाद से वे काफी चर्चा में आ गए. बता दें कि हार्दिक ने उनकी सीडी जारी होने से कुछ समय पहले ही मीडिया से कहा था भाजपा उनकी कोई सीडी जारी कर उन्हें बदनाम कर सकती है.   

डेंगू के नाकाम इलाज का बिल 16 लाख, कौन करेगा प्राइवेट अस्पतालों की अंधेरगर्दी का इलाज ?

क्या अलगाववादियों की पोल अब पूरी तरह खुलेगी ?