नई दिल्ली: राम रहीम जेल में हनी प्रीत को याद कर रहा है और हनी प्रीत गायब है. हनी प्रीत की तरह राम रहीम का प्रवक्ता आदित्य इंसां भी फरार है. इन दोनों को हरियाणा पुलिस नेपाल बॉर्डर से लेकर मुंबई तक तलाश कर रही है और अब साधुओं की सबसे बड़ी संस्था अखाड़ा परिषद राम रहीम, आसाराम, राधे मां जैसे विवादित और पाखंडियों की तलाश में जुट गई है.
 
आखिर किसी गैंगस्टर के गुर्गों की तरह क्यों फरार हुए राम रहीम के राज़दार ? फ्रॉड बाबाओं के खिलाफ कैसे एकजुट होगा संत समाज, आज इन्हीं मुद्दों पर होगी महाबहस. बलात्कारी राम रहीम को जब 25 अगस्त को पंचकुला की कोर्ट से रोहतक जेल भेजा जा रहा था, उसी वक्त ये बात हरियाणा पुलिस को मालूम हो चुकी थी कि राम रहीम को उसके खास चेलों ने फरार करवाने की साज़िश रची थी. साज़िश तो नाकाम हो गई, लेकिन साज़िश रचने वालों को पकड़ने में पुलिस अब तक कामयाब नहीं हो पाई है.
 
हरियाणा पुलिस ने राम रहीम की खासमखास हनी प्रीत और आदित्य इंसां के खिलाफ पुलिस ने देशद्रोह का मुकदमा दर्ज़ किया है. दोनों के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी है और दोनों में से किसी का सुराग पुलिस के पास नहीं है. हरियाणा पुलिस को तो ये ख्याल भी देर से आया कि राम रहीम के डेरे में मौजूद हथियारों का जमा करा लिया जाए.
 
फिलहाल अब राम रहीम की राज़दार हनी प्रीत और आदित्य इंसां की गिरफ्तारी हरियाणा पुलिस के लिए चुनौती बन गया है. अब ये समझ में नहीं आ रहा कि जब पुलिस को पहले से पता था कि राम रहीम को सज़ा होने के बाद उसके चेले गड़बड़ी कर सकते हैं, तो फिर पुलिस ने हनी प्रीत और आदित्य इंसां पर नज़र रखना क्यों ज़रूरी नहीं समझा.
 
राम रहीम के मामले में हाईकोर्ट की फटकार खा चुकी हरियाणा सरकार अब भी सवालों में घिरी है. हाईकोर्ट ने राम रहीम की प्रॉपर्टी अटैच करने और डेरा के बैंक खाते सीज़ करने का आदेश दिया है, लेकिन हाल ये है कि जब बैंक खातों की डिटेल जानने के लिए डेरा की मैनेजर विपश्यना को बुलाया गया, तो उसने दो टूक कह दिया कि अभी इसमें टाइम लगेगा.
 
राम रहीम को सज़ा मिलने के बाद सवालों में संत समाज भी घिरा है. अब अखाड़ा परिषद ने तय किया है कि राम रहीम, आसाराम, रामपाल, राधे मां जैसे विवादित और फ्रॉड बाबाओं की लिस्ट बनाई जाएगी. 10 सितंबर को इलाहाबाद में संतों की मीटिंग में लिस्ट फाइनल होगी और फ्रॉड बाबाओं की जानकारी सरकार को भी दी जाएगी, ताकि उन पर अंकुश लगाया जा सके.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App