भोपाल. 15 साल बाद मध्य प्रदेश की सत्ता में वापस लौटे कांग्रेस ने वरिष्ठ नेता कमलनाथ को मुख्यमंत्री बनाया है. 230 विधानसभा सीटों में से 114 सीटों पर जीत हासिल कर कांग्रेस राज्य में सबसे बड़े दल के रूप में उभरी है. 11 दिसंबर को घोषित हुए चुनाव परिणाम के बाद मुख्यमंत्री पद के चयन के लिए भारी माथापच्ची हुई. कमलनाथ के साथ-साथ ज्योतिरादित्य सिंधिया भी सीएम पद की रेस में थे. हालांकि कांग्रेस आलाकमान ने विजेता विधायकों से रायशुमारी कर कमलनाथ को ताज सौंपा है.

कमलनाथ के सीएम बनने के संकेत गुरुवार को दिल्ली में राहुल गांधी के साथ हुई बैठक के बाद ही दिख गई थी. उस बैठक से बाहर निकल कर ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि वे मुख्यमंत्री की रेस में नहीं है. बैठक के बाद राहुल गांधी ने कमलनाथ और सिंधिया के साथ एक तस्वीर भी ट्वीट की थी.

हालांकि कमलनाथ को मुख्यमंत्री बनाने का औपचारिक ऐलान भोपाल में कांग्रेस विधायक दल की बैठक में किया गया. दिल्ली से वापस आने के बाद कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस कार्यालय पहुंचे. जहां एमपी के कांग्रेस पर्यवेक्षक एके एंटनी पहले से मौजूद थे. भोपाल एयरपोर्ट से मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह भी साथ कार्यालय पहुंचे. कांग्रेस कार्यालय में कमलनाथ ने जीते हुए विधायकों से मुलाकात की. बैठक के बाद मध्य प्रदेश में कांग्रेस पर्यवेक्षक एके एंटनी ने कमलनाथ के नाम का ऐलान किया.

कमलनाथ का मुख्यमंत्री पद पर चुना जाना यह बताता है कि यहां कांग्रेस ने अनुभव को तव्ज्जो दिया है. बताते चले कि कमलनाथ एमपी से कांग्रेस के सबसे पुराने और दिग्गज नेता है. मात्र 34 वर्ष की उम्र में कमलनाथ मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा लोकसभा सीट से चुन कर सांसद पहुंचे थे. कमलनाथ 9 बार इस सीट से सांसद चुने जा चुके हैं. कमलनाथ की गिनती कांग्रेस के सबसे विश्वासी नेताओं में की जाती है.

Madhya Pradesh Government CM Swearing-In LIVE update: मध्यप्रदेश में कमलनाथ को चुना गया विधायक दल का नेता, 15 दिसंबर को लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ 

Assembly Election Results 2018 Vote Seat Share Data Analysis: मध्य प्रदेश चुनाव में शिवराज सिंह चौहान की हार, बीजेपी से 47827 वोट कम पर सीट 5 ज्यादा जीती कांग्रेस, 7 सीटें 1000 से कम के मार्जिन से 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App