नई दिल्ली। जिस तरह से आपका शरीर थकता है, वैसे ही आपका दिमाग भी थक जाता है. इस थकान के कारण कई बार दिमाग में भारीपन भी आने लगता है. इसके लिए कई कारण हैं.जब आपका मन थक जाता है, तो सिर में भारीपन, मानसिक थकान, चिड़चिड़ापन, क्रोध, घबराहट और किसी से बात करने की इच्छा नहीं होती है. आपको बता दें कि इन सभी समस्याओं से संकेत मिलते हैं कि आपको अपने दिमाग की सेहत पर ध्यान देने की जरूरत है. साथ ही भावनात्मक स्वास्थ्य पर भी काम करने की जरूरत है. आइए जानते हैं दिमाग के भारी होने के और क्या कारण हैं और इसे कैसे दूर किया जा सकता है.

इन कारणों से होती है मानसिक थकान

मानसिक थकान आपके काम को प्रभावित करती है. आपको बता दें कि हर व्यक्ति के लिए मानसिक थकान के कारण अलग-अलग हो सकते हैं. जैसे, लंबी बीमारी, लंबे समय तक नशीली दवाओं का सेवन, बहुत अधिक तनाव लेना, देर तक जगना. ये सभी कारण मानसिक थकान के कारण हो सकते हैं.

राहत देगी ये आयुर्वेदिक दवाएं

मानसिक थकान से बचने के लिए आप तीन आयुर्वेदिक दवाओं का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. इससे आपको निश्चित तौर पर राहत मिलेगी.इसमें अश्वगंधा, शंखपुष्पी और ब्राह्मी शामिल हैं.

       जानिए तीनों औषधि के फायदे

  • अश्वगंधा एक ऐसी दिव्य औषधि है, जो आपको मानसिक तनाव से बचाती है. यह जरूरी नहीं है कि इस दवा का सेवन केवल बीमारी के दौरान ही किया जाए. इसका इस्तेमाल आप एक्टिव रहने के लिए भी कर सकते हैं.
  • ब्राह्मी आपकी याददाश्त बढ़ाने में मदद करती है. इसके साथ यह मानसिक थकान को दूर करने और हार्मोनल संतुलन बनाए रखने में मदद करता है. अगर चीजों को याद रखने में दिक्कत हो रही है तो आपको ब्राह्मी का सेवन जरूर करना चाहिए.
  • वहीं तीसरी दवा जो दिमाग को तेज बनाती है वह है शंखपुष्पी. इसके सेवन से तन और मन दोनों को ताजगी मिलती है.

 

यह भी पढ़ें:

Delhi-NCR में बढ़े कोरोना के केस, अध्यापक-छात्र सब कोरोना की चपेट में, कहीं ये चौथी लहर का संकेत तो नहीं

IPL 2022 Playoff Matches: ईडन गार्डन्स में हो सकते हैं आईपीएल 2022 के प्लेऑफ मुकाबले, अहमदाबाद में होगा फाइनल

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर