Thursday, February 2, 2023
spot_img

लंबी छुट्टी के बाद भी नहीं उतरती थकान? जानें आराम पाने के अन्य तरीके

नई दिल्ली। सप्ताह भर ऑफिस और घर में भरपूर काम करने के बाद मन होता है वीकेंड पर रिलेक्स करने और आराम करने का। कुछ लोग काम से ब्रेक लेकर वेकेशन पर भी चले जाते हैं।इसके बावजूद उन्हें काम पर लौटते हुए वही स्ट्रेस और बोझ ही महसूस होता है। आप सभी का अनुभव भी कुछ ऐसा ही है तो आपको रेस्ट करने का तरीका बदलने की बेहद जरूरत है। संभव है कि आपको सामान्य किस्म के रेस्ट की जगह थोड़ा स्पेसिफिक रेस्ट की आवश्यकता है। जानकारी के लिए बता दें , रेस्ट के भी अलग – अलग प्रकार होते है। इन्हें ट्राई करिए और देखिए कि कौन सा रेस्ट आपको वाकई आराम दे रहे है।

स्पिरिच्यूअल रेस्ट

बता दें , छुट्टियों का समय हो सकता है आप मोबाइल और टीवी देखते हुए बिताते हो , इससे आपको फिजिकल रेस्ट तो मिल सकता है। लेकिन दिमागी सुकून नहीं मिलता और थकावट का अहसास रहता है। इससे बेहतर है कि ऑफिस जाने से पहले खुद को स्पिरिच्यूअल रेस्ट जरूर दे। कुछ देर शांति से आंख बंद कर बीते हुए अच्छे पलों को याद करें और कुछ देर भजन या कथा सुनते रहे। ऐसा करने से दिमाग को काफी शांति मिलेगी।

सेंसॉरी रेस्ट

मोबाइल पर पूरे समय आ रहे नोटिफिकेशन्स, मैसेज, मेल्स, अलर्ट्स- न चाहते हुए भी दिमाग को शांत नहीं होने देती है । बता दें , स्क्रीन पर ये सारी चीजें देखकर न चाहते हुए भी सेंसॉरी नर्वज एक्टिव रहती है।आपको इस किस्म के रेस्ट के लिए खुद को डिजिटली डिटॉक्स करने पड़ेगा। नेट ऑफ कर स्क्रीन को खुद से दूर करें और आराम से लेत जाए।

क्रिएटिव रेस्ट

आपको जिस भी तरह का काम करना पसंद है , जिसे की हॉबी कहा जाता है। उस हॉबी के साथ कुछ वक्त बिताएं जैसे डांस, पेंटिंग, कुकिंग, गार्डनिंग- जो भी आपका मन करे, उस काम में अपना मान लगाए। इस तरह आपको काफी राहत मिलेगी।

इमोशनल रेस्ट

इस तरह के रेस्ट में आपको फैमिली के साथ समय बिताना होगा। लेकिन आपको उन बातों को अवॉइड करना है जो आपको या किसी फैमिली मैंबर को परेशान करती हो। परिवार वालों के साथ बीते शांती भरे लम्हे खूब सुकून वाले होते है।

सोशल रेस्ट

आपको खुद को सोशली रेस्ट देना भी बहुत जरूरी है। एक दिन ऐसा जरूर निकालिए जब आप सबसे कट कर सिर्फ खुद के साथ समय बिताएं और अपने अनुसार चीज़े को करे। बस इतना समय काफी है अपने आपको एनर्जी देने के लिए ।

Latest news