Wednesday, August 17, 2022

समय पर पीरियड्स ना आने की वजह हो सकती हैं ये गंभीर बीमारियां

पीरियड

नई दिल्ली : ऐसी बहुत सारी महिलाएं है जिन्हें अनियमित पीरियड्स का सामना करना पड़ता है.कभी-कभी पीरियड्स का समय से आना या थोड़ा सा लेट आना ये नार्मल होता है. लेकिन ये हर महीने होता है तो ये चिंता का कारण है। अनियमित पीरियड्स के कारण महिलाओं को गर्भधारण करने में भी मुश्किलें आती है।

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम

इस स्थिति में आपके लिए ओव्यूलेशन के बारे में जानना, फर्टिलिटी के संकेतों को पहचानना और प्रेग्नेंसी प्लान करना बहुत ज्यादा मुश्किल हो सकता है.

कई बार महिलाओं को पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम के कारण असामान्य ब्लीडिंग का सामना करना पड़ता है. यह समस्या होने पर महिलाओं को अनियमित पीरियड्स होते हैं जिस कारण फर्टिलिटी पर भी इसका असर देखने को मिलता है।

पीरियड्स साइकिल 28 दिनों का होता है

ऐसी बहुत सी महिलाएं हैं जिन्हें अनियमित पीरियड्स का सामना करना पड़ता है. जब आपको अनियमित रूप से पीरियड्स होते हैं तो इससे आपके मेन्सट्रुअल साइकिल की लेंथ बदल जाती है. पीरियड्स तो जल्दी या देर से भी आ सकते हैं. किसी महिला की पीरियड्स साइकिल 28 दिनों की होती है.

हालांकि, पीरियड्स का थोड़ा जल्दी आना या थोड़ा सा देर से होना ठीक है लेकिन ऐसा हर महीने नहीं होना चाहिए क्योंकि यह बिमारी का कारण हो सकता हैं. पीरियड्स साइकिल 21 दिन से कम और 35 दिन से ज्यादा की होती है. इसके अलावा, जिन महिलाओं का देर से पीरियड होता है, उन्हें ओव्यूलेट करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. इसे एनोवुलेटरी साइकिल के रूप में जानते है.

फर्टिलिटी से जुड़े टेस्ट करवा लें

जिन महिलाओं को अनियमित पीरियड्स होते रहते हैं, उन्हें गर्भधारण के समय बहुत सी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है क्योंकि पीरियड्स अनियमित होने से ओव्यूलेशन का पता नहीं चलता।

ऐसे में अगर आप प्रेग्नेंसी के लिए कोशिश कर रही हैं तो यह जरूरी है आप पहले फर्टिलिटी से जुड़े टेस्ट करवा लें. इसके लिए आप फर्टिलिटी एक्सपर्ट की सलाह एक बार जरूर लें. इसके साथ ही फर्टिलिटी कंसल्टेंट की ओर से दिए निर्देशों का पालन भी करें.

यह भी पढ़ें :

राम रहीम हमशक्ल याचिका पर HC की फटकार, कहा- ये कोई फिल्म है क्या?

पूर्व एमएलसी हाजी इकबाल की कोठियों पर चला बुलडोजर

 

Latest news