नई दिल्ली. इस मौसम में चिकन पॉक्स बीमारी काफी फैल रही है. यह वेरिसेला जोस्टर वायरस के कारण होने वाली संक्रामक बीमारी है. यह बीमारी गर्मियों की शुरुआत में होती है. इसमें छाले, फफोले जैसे दाने, खुलजी, थकान और बुखार होता है. चिकना पॉक्स में चेहरे से लेकर पूरे शरीर में फफोले फैल जाते हैं. खुजली वाले चिकन पॉक्स गंभीर हो जाते है. खासकर बच्चों के लिए यह बहुत ही गंभीर बीमारी होती है. चिकन पॉक्स वैक्सीन का प्रयोग कर 2 हफ्तों में चिकन पॉक्स बीमारी से बचा सकता है.

चिकन पॉक्स के लक्षण
चिकन पॉक्स संक्रमण वायरस के कारण होता है. चिकन पॉक्स 5 से 10 दिनों तक रहता है. चिकन पॉक्स होने का सबसे ज्यादा खतरा छोटे बच्चे को होता है. चिकन पॉक्स की में पूर शरीर दाने निकल आते है, साथ चक्कर आना, भटकाव महसूस करना, बुखार चढ़ना ही चिकन पॉक्स के लक्ष्ण के हैं. चिकन पॉक्स में पहले चेहरे पर दाने होते है और उसके बाद पूरे शरीर में दाने फैल जाते है. बाद यह दाने भयंकर रुप ले लेते हैं.

चिकन पॉक्स के कारण
चिकन पॉक्स बेहद संक्रामक रोग होता है और यह काफी जल्दी से फैल जाता है. उन लोगों को चिकन पॉक्स का खतरा अधिक बढ़ जाता है जिन्हें पहले ना हुआ हो. या फिर उसे जिसे चिकन पॉक्स का टीका नहीं लगा हो. चिकन पॉक्स एक से ज्यादा बार होना दुर्लभ है. चिकन पॉक्स बच्चों को और बीमार इंसान को बहुत जल्दी हो जाते हैं.

चिकन पॉक्स के उपाय
चिकन पॉक्स में के समय तेल मासाले का परहेज करना चाहिए. चिकन पॉक्स के दौरान मुनक्का खाना चहिए. इस दौरान घर में तेल मसाले का खाना नही बनना चहिए. चिकन पॉक्स के समय फल और हरि सब्जियों का प्रयोग करना चाहिए. चिकन पॉक्स में जुस पीना चाहिए.

डायबिटीज से लेकर पथरी तक नारियल पानी के हैं असरदार फायदे, जानिए यहां

गर्मियों में ऑरेंज आइस टी का सेवन होगा असरदार, ऐसे करें मिनटों में तैयार

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App