Sunday, September 25, 2022

क्या कोरोना से मौत का खतरा टल गया है? जानिए कौन से एहतियात बरतने है जरुरी

नई दिल्ली: आजकल देश में एक बार फिर से कोरोना केस के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है. ऐसे में एक बार फिर लोगों में कोरोना वायरस को लेकर खौफ बढ़ने लगा है. हालांकि भारी तादाद में देश की आबादी को कोरोना की वैक्सीन लगाई जा चुकी है. लेकिन आपको बता दें फिर भी इससे सावधानी बरतना बेहद जरुरी है.

क्या कहते हैं एक्सपर्ट

कोरोना की वैक्सीन लगने के बाद क्या खतरा पहले से कम हुआ है? इस बारे में एक्सपर्ट का मानना है कि एक बार कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद हमारे शरीर में संक्रमण के खिलाफ एंटीबॉडी बन जाती है. जिसके बाद आगे अगर कभी हमारा शरीर दोबारा से उसी वायरस के चपेट में आता है तो यह ज्यादा खतरनाक नहीं होता. लेकिन वो लोग जिनमें डायबिटीज, हार्ट और लीवर से जुड़ी बिमारी या इस प्रकार की कोई भी बिमारी है तो उनके लिए ये संक्रमण बेहद खतरनाक साबित हो सकता है

कोविड गाइडलाइंस इस खतरे को करेगा कम

जो लोग कोविड गाइडलाइंस का पालन कर रहे हैं जाहिर है उनके लिए संक्रमण का खतरा कम है. इस बारे में एक्सपर्ट का कहना है कि कुछ व्यक्तिगत तरीके अपना कर कोरोना के संक्रमण को कम किया जा सकता है. इसके साथ ही आपके शरीर में संक्रमण के अगर कोई भी लक्षण महसूस हों तो तुरन्त डॉक्टर से सलाह लें. चलिए आपको बताते इससे बचाव के तरीके:

अपने हाथों को बार-बार साबुन से धोएं।

साबुन और पानी उपलब्ध न हो तो समय-समय पर हाथों को sanitize करें।

अपने आँख, नाक मुँह और हाथों को छूने से पहले अपने हाथों को धो ले.

दो गज़ की दूरी और मास्क है बेहद ज़रूरी इसे हमेशा याद रखे.

भीड़ भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें।

छींकते और खासते समय मुँह को किसी रुमाल या गमछे से ढँक लें.

इस्तेमाल किए गए टिश्यू और मास्क को डस्टबिन में ही फेंके। इसे इधर-उधर सडकों पर न फेंके।

 

यह भी पढ़ें :

बीजेपी MYY फॉर्मूला: पीएम मोदी राजस्थान बीजेपी की लगाएंगे नैया पार, चुनावों में फिर ‘MYY’ फॉर्मूला बनेगा संकटमोचन

भारत में ओमिक्रोन सबवैरिएंट BA.4 का पहला केस मिला, इन्साकाग ने की पुष्टि, जानें क्या है ये नया वैरिएंट

Latest news