नई दिल्ली. सावन का पावन पर्व शुरु हो चुका है और यह उस वर्ष का समय है जब आप और अपने पसंदीदा भगवान शिव के बीच के संबंध को पूरे जश्न और उल्लास के साथ मनाते है. श्रावण का महीना आत्मा और महादेव की भावना को समर्पित है. वहीं महादेव के भक्त भी अपने पूजनीय शिव को प्रसन्न करने का कोई मौका नहीं छोड़ना चाहते है.

शिव मोक्ष के साथ अपने भक्तों को आशीर्वाद देने के लिए जाने जाते हैं ताकि आप अपने चाहने वालों को सकारात्म संदेश दे सके. मसिक शिवरात्रि या मास शिवरात्री कृष्णा पक्ष के दौरान चतुर्दशी तीथि और भगवान शिव के भक्त श्रावण के समय उपवास के साथ ही उनकी पूजा करते हैं. इस साल, सावन शिवरात्रि 9 अगस्त को पड़ रही है. सावन शिवरात्रि को श्रावण शिवरात्रि भी कहा जाता है.

यह उत्तराखंड, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और बिहार के उत्तरी भारतीय राज्यों में ज्यादा लोकप्रिय है जहां पूर्णिमंत चंद्र कैलेंडर का पालन किया जाता है. आंध्र प्रदेश, गोवा, महाराष्ट्र, कर्नाटक, गुजरात और तमिलनाडु में जहां अमराव्य चंद्र कैलेंडर का पालन किया जाता है, सावन शिवरात्रि आषाड शिवरात्रि से जोड़ा जाता है.

आप भी इस महादेव के इस पावन पर्व पर अपने परिवारजनों, मित्रों और रिश्तेदारों को शिवरात्रि के  संदेश भेज कर उन्हें इस दिन के लिए सकारात्मक शुभकामानाएं दे. घर में माता-पिता अगर भगवान शिव के अपार भक्त हैं तो आज के दिन उनकी शिव की पूजा करने में मदद करे, लेकिन याद रहें सुबह जल्दी उठकर पहले नहा ले फिर ही शिव की पूजा करे.

Sawan Shivratri 2018: सावन की शिवरात्रि पर भूलकर भी न करें ये 5 काम, ये दिन है बेहद खास

Sawan Shivratri 2018: 9 अगस्त को सावन शिवरात्रि पर इस समय करें जलाभिषेक और भोलेनाथ की पूजा

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App