नई दिल्ली. हिंदूकैलेंडर के मुताबिक बसंत पंचमी का त्योहार हर साल माघ मास में शुक्ल पक्ष की बसंत पंचमी के दिन मनाया जाता है. इस साल देशभर में बसंत पंचमी का त्योहार 22 जनवरी 2018 को मनाया जा रहा है. पिछले साल बसंत पंचमी त्योहार 1 फरवरी 2017 को मनाया गया था. ऐसा मानास जाता है कि इस दिन माता सरस्वती का जन्म हुआ था. इसलिए बसंत पंचमी के दिन सरस्वती माता की विशेष पूजा की जाती है. बसंत पंचमी को श्री पंचमी और ज्ञान पंचमी भी कहा जाता है. यह त्योहार पूर्वी भारत, पश्चिमी-उत्तरी बांग्लादेश, नेपाल और कई राष्ट्रों में बड़े उल्लास से मनायी जाती है. मां सरस्वती की पूजा की इस बार 21 जनवरी को दोपहर बाद 3.33 बजे पंचमी प्रारंभ हो रही है 22 जनवरी को शाम 4.25 बजे तक पंचमी रहेगी.

बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती का पूजन शुभ मुहूर्त में करने से विद्या, धन, वैभव सभी कुछ पाया जा सकता है. इस दिन मां सरस्वती की दूध, दही, मक्खन, घी, नारियल से पूजा करनी चाहिए. इसके अलावा इस दिन अच्छे काम करना भी शुभ माना जाता है. इस दिन पीला रंग को बहोत महत्तव होता है. बसंत पंचमी के दिन अगर पीले रंग के वस्त्र पहनकर पूजा करें तो यह भी शुभ होता है. इतना ही नहीं इस दिन पीले पकवान बनाना शुभ लाभ का प्रतीक होता है. इस दिन नए जन्मे बच्चे को पहला निवाला खिलाया जाता है. विद्या अध्ययन करने वालों को बसंत पचंमी के दिन मां सरस्वती की अराधना जरूर करनी चाहिए. इसके अलावा इस दिन बच्चे की जिह्वा पर शहद से ओम बनाना चाहिए इससे बच्चा ज्ञानी बनता है.

हैप्पी बसंत पंचमी 2018 इंग्लिश इमेज मैसेजेस:

Basant Panchami 2018: ऐसे करें मां सरस्वती पूजा तो होगा लाभ, बन रहा है शुभ संयोग

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर