नई दिल्ली. सेक्स के दौरान करीब आधे पुरुषों को कोई अंदाजा नहीं होता है कि उनकी पत्नी को कितनी बार चरम सुख प्राप्त होता है. हाल ही में हुए एक नए सर्वे के मुताबिक, 3200 नए शादी-शुदा जोड़ों में सिर्फ एक तिहाई पति इस बात का अंदाजा लगा पाते हैं कि उनकी पत्नी कितनी बार चरम सुख प्राप्त करती हैं. शोधकर्ताओं की माने तो इस वजह से जोड़ों के बीच बड़ी पेरशानी सामने आती है.

दरअसल जो पति अपनी पत्नी के चरमसुख के बारे में कोई खबर नहीं रखते हैं, उनके पार्टनर अधिकतर मामलो में सेक्स लाइफ और रिलेशनशिप को लेकर नाखुश रहते हैं. उटाह की ब्रीघम यंग यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने करीब 1683 हेट्रोसेक्शुअल जोड़ों पर सर्वे कर यह नतीजा निकाला है. सर्वे में शामिल 18 से 36 वर्ष के आयु के सभी लोगों से पूछा गया कि शादी की पहली साल वे और उनके साथी ने कितनी बार चरमसुख तक पहुंचे.

इसके लिए लोगों ने 1 से 5 के पैमाने पर जवाब दिया. जिनमें 5 में से 5 अंक देने का अर्थ था कि सेक्स के दौरान महिला ने 80 प्रतिशत चरम सुख का आनंद प्राप्त किया. वहीं पुरुषों से उनकी पत्नियों के लिए एक ही स्कोर प्रदान करने के लिए कहा गया था, लेकिन 43 फीसदी मामलों में यह गलत पाया गया.

वहीं इस शोध पर टिप्पणी करते हुए डॉक्टर अमांडा मेजर ने कहा कि जब जोड़ों के प्यार की बात आती है तो वहां कई गलतफहमी हो सकती है. उन्होंने बताया कि अगर पुरुष गलत तरीके से महिला के साथ सेक्स करता है तो यह एक समस्या है. जिसकी वजह से दोनों लोगों में निराशा बढ़ जाती है. इसके साथ ही इसकी वजह से उनका आत्म-सम्मान प्रभावित हो सकता है. उन्होंने आगे कहा कि सेक्स के दौरान सभी महिलाएं चरमसुख की प्राप्ती नहीं चाहती हैं. इसलिए सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि दोनों लोग सेक्स के दौरान एक दूसरे से क्या चाहते हैं.

वहीं शोध के नतीजों के अनुसार, पांच में से सिर्फ एक महिला 10 बार संभोग करने के बाद सिर्फ चार बार चरम सुख का आनंद प्राप्त करती है. सिर्फ 3 फीसदी पुरुषों को हैप्पी एन्डिंग मिलती है. जबकि 25 फीसदी पुरुषों ने अधिक अनुमान लगाया कि उनकी पत्नी को कितनी बार चरमसुख का आनंद प्राप्त होता है. वहीं सर्वे में पता चला कि सेक्स के दौरान महिलाओं को ज्यादा पता होता है कि बेडरूम में क्या चल रहा है. 7 में से सिर्फ एक महिला ने गलत अंदाजा लगाया कि उनके पति कितनी बार चरम सुख प्राप्त करते हैं.

इसके साथ सर्व में जोड़ों से पूछा गया कि वे अपने रिलेशनशिप और सेक्सुअल जीवन से कितने संतुष्ट हैं. साथ ही वे दोनों सेक्स को लेकर आपस में कितना खुलकर बातचीत करते हैं. जिसके जवाब में पाया गया कि जो लोग आपस में सेक्स को लेकर बातचीत करते हैं, वो बेडरूम में रोमांस के समय खुश रहते हैं.

रिसर्च में खुलासा- गर्भधारण के लिए इन महीनों में इस वक्त बनाएंगे शारीरिक संबंध तो जरूर बनेंगे मम्मी-पापा

आखिर शनिवार क्यों है सेक्स के लिए शानदार ?

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App