नई दिल्ली: शराब पीना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है, यह चेतावनी तो आपने बोतल पर देखी होगी और अनदेखी कर दी होगी. एल्कोहल के सेवन को लेकर कई तरह की भ्रांतियां प्रचलित हैं जैसे कि थोड़ी पीने से स्वस्थ रहते हैं. अगर आप इन बातों पर यकीन करते हैं तो सावधान रहने की जरूरत है. ऐल्कोहल का सेवन नहीं बल्कि इसे छोड़ना ही सेहतमंद रहने का एकमात्र तरीका है. एक नई स्टडी में यह कहा गया है.

‘द लैंसेट’ में प्रकाशित रिसर्च में कहा गया है कि अगर एल्कोहल से होने वाले नुकसान से बचना चाहते हैं तो शराब का सेवन छोड़ना ही सेहतमंद रहने का एक मात्र तरीका है. इसमें कहा गया है कि हर साल करीब 7 फीसदी पुरुषों और 2 फीसदी महिलाओं की मौत एल्कोहल से संबंधित समस्याओं की वजह से हो रही हैं. 2016 में दुनिया भर में 15-49 आयुवर्ग के पुरुषों-महिलाओं में बीमारियों और असामयिक मृत्यु के पीछे शराब का सेवन सबसे बड़ा फैक्टर था.

रिसर्चरों ने 195 देशों और 1990-2016 के बीच के समय को अपनी स्टडी में शामिल किया है. इसके अलावा शोधकर्ताओं ने दूसरी स्टडीज के डेटा को भी इकठ्ठा किया जिनमें एल्कोहल के सेवन के कई फायदे गिनाए गए हैं. कुछ रिसर्च रिपोर्टों में कहा गया है कि शराब के सेवन से हार्ट की बीमारियों का खतरा कम होता है. लेकिन ‘द लैंसेट’ की रिसर्च ने इन्हें नकार दिया है.

इस स्टडी में कहा गया है कि एल्कोहल का सेवन स्वास्थ्य को कई तरीकों से नुकसान पहुंचाता है. दिन में एक ड्रिंक लेने से भी कैंसर, डायबिटीज, ट्यूबरकुलोसिस जैसी बीमारियां होने का खतरा 0.5 फीसदी तक बढ़ जाता है. दिन में दो ड्रिंक लेने वालों के लिए यह खतरा 7 फीसदी तक और 5 ड्रिंक लेने वालों के लिए 37 फीसदी तक बढ़ जाता है.

शोधकर्ता डॉ. मैक्स ग्रिसवुल्ड का कहना है कि इस स्टडी में एल्कोहल और सेहत के संबंध पर प्रकाश डाला गया है. यूके की ऑफिशल गाइडलाइन्स में सप्ताह में 14 यूनिट या 7 पॉइंट्स से ज्यादा एल्कोहल का सेवन नहीं करने की सलाह दी गई है. यूके के चीफ मेडिकल ऑफिसर्स ने कई बार यह बात दोहराई है कि एल्कोहल सेवन का कोई सुरक्षित पैमाना नहीं है.

दिल्ली में सेक्स का हनीट्रैप: फेसबुक पर फंसाकर बेड तक लाती थी लड़की और पुलिस रेड मरवाकर रेप के नाम पर वसूलती थी लाखों रुपए

विराट कोहली के रेस्टोरेंट नुएवा की है ये पांच खासियत जिसे जानकर आप जाए बिना नहीं रह सकेंगे