नई दिल्ली: इस भाग-दौड़ की जिंदगी में इंसान सिर्फ एक मशीन बनकर रह गया है. इसके अलावा सुख-सुविधाओं के इन साधन ने लोगों को बिमारियों का घर बना दिया है. आजकल सर्वाइकल की समस्या आमतौर सभी कई लोगों में पाई जा रही है. सर्वाइकल के दर्द से निजात पाने के लिए अक्सर लोग बाजार में मौजूद कई तरह की मशीनों का भी प्रयोग करते हैं. इसके बावजूद वो सर्वाइकल के इस दर्द से छुटकाता नहीं मिल पाता. आज हम आपको कुछ ऐसे घरेलू उपचार बताने जा रहे हैं जिससे आप न सिर्फ सर्वाइकल दर्द से बल्कि सर्वाइकल नाम की इस बीमारी से पूरी तरह निजात पा सकते हैं.

इन कारणों से हो सकती है सर्वाइकल की परेशानी
सर्वाइकल का उपचार जानने से पहले यह जानना बहुत जरूरी है कि यह किन-किन कारणों से हो सकता है. दरअसल, सर्वाइकल कई कारणों से हो सकता है जैसे कि घंटों कम्पयूटर पर काम करना, गलत ढंग से और शारीरिक शक्ति से अधिक बोझ उठाना, घटों भर सिलाई, बुनाई करने वाले लोगों, बहुत झुक कर बैठ कर पढ़ना या लेटकर पढना इसके अलावा ऐसे कई कारण है जो इस बीमारी को जन्म देते हैं.

सर्वाइकल से पीड़ित इंसान को गर्दन, कंधों में दर्द के साथ सिर में भी पीड़ा और तनाव रहता है. यह दर्द कभी-कभी इतना बढ़ जाता है कि उन्हें दर्द की दवाई तक खानी पड़ती है. लेकिन आज हम आपको जो तरीके बताने जा रहे हैं उससे आप सर्वाइकल पेन से पूरी तरह निजात पा सकते हैं.

सर्वाइकल की परेशानी ने निजात पाने का तरीका

1. सीधा बैठकर अपने सिर को धीरे- धीरे दाएं कंधे की ओर ले जाएं और थोड़ी देऱ रूके. इसके बाद फिर बीच में लाए. ऐसा 3-4 बार करने के बाद यही क्रिया फिर से बायीं ओर भी दोहराएं. ऐसा करीब 10 से 15 मिनट तक करें.

2. इसके बाद अब अपने सिऱ को पीछे की ओर झुकाएं और थोड़ी देर रूके, फिर अपने सिर को आगे की तरफ झुकाएं इसके बाद अपने सिर को दाएं-बाएं कंधे की ओर भी झुका कर कुछ देर रूके. इससे आपको सर्वाइकल दर्द में काफी राहत मिलेगी.

3. अब अपने सिर को पिछे की तरफ से आगे की ओर जोर दें ,लेकिन इस दौरान आप अपने सिर को हिलने न दें. इसके अलावा यही क्रिया सिर को दाईं ओर से फिर बाईं ओर से दोहराएं. ध्यान रहे कि इन सभी क्रिया के दौरान अपनी सांस न रोके.

4. इसके बाद सीधा खड़ा होकर या साधा बैठकर अपने दोनों हाथों को को घड़ी का गोल-गोल घुमाएं फिर यही क्रिया इसके विपरीत दिशा में दोहराएं.

5. अब अपनी दोनों हथेलियों को कंधे पर रखकर दोनों कोहनियों को से गोला बनाते हुए गोल-गोल घुमाएं. इस दौरान दोनों कोहनियों को आपस में छुआने की कोशिश जरूर करें. इसके बाद फिर यही क्रिया विपरीत दिशा में दोहराए.

6. फर्श पर बिना तकिये के सहारे लेट जाए. इसके बाद धीरे – धीरे अपनी दर्दन को ऊपर की तरफ जितना संभव हो सके उतना उठाएं. इस दौरान आपके पीठ का हिस्सा फर्श से ही टच रहना चाहिए. फिर गहरी सांस लेते हुए धीरे-धीरे सांस छोड़े. ऐसा रोजाना करें.

7. इसके अलावा सर्वाइकल से ग्रस्त लोगों को हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि वो पीठ के बल बिना तकिये के ही सोयें.

हरे मटर से बनेगा चेहरा चांद सा सुंदर, इस खास तरीके से करें इस्तेमाल और फिर देखें कमाल

हेल्थ टिप्स: इस वजह से सुबह का नाश्ता है सबसे जरूरी, ब्रेकफास्ट करने के होते हैं कई फायदे

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App