Monday, August 15, 2022

क्या आपको भी बेहद सताती है चिंता? जानिए Anxiety के पीछे की असल वजह

नई दिल्ली: ऐसा कहा गया है कि ‘चिंता चिता समान है’, और ये बात कई मायनों में सच भी है. Depression कई बीमारियों की जड़ है, इसलिए बेहतर है कि आप अपनी लाइफ को लेकर जरा भी Stress न लें वरना इससे आप खुद को ही नुकसान पहुंचाएंगे. कुछ लोग जरूरत से ज्यादा सोचते हैं. इसे आमतौर पर Overthinking कहा जाता है. भारत के मशहूर हेल्थ एक्सपर्टस ने भी बताया है कि आखिर Anxiety के पीछे के असल कारण क्या है. आइए इन कारणों को डिटेल से जानते हैं.

Anxiety के बड़े कारण

एड्रिनल फैटिग (Adrenal Fatigue)

आपके stress को मैनेज करने के लिए आपके adrenals मुख्य रूप से जिम्मेदार होते हैं, ये आपके टेंशन के स्तर और अपर्याप्त मात्रा में स्ट्रेस हार्मोन का उत्पादन करते हैं.

एस्ट्रोजन डोमिनेंस (Estrogen Dominance)

जब आपके पास अपने एस्ट्रोजन (Estrogen ) को संतुलित करने के लिए पर्याप्त मात्रा में प्रोजेस्टेरोन (Progesterone) नहीं होता है, तो आप अपनी मन में उत्पन्न हो रही भावनाओं को कंट्रोल नहीं कर सकते हैं, ये भवनाएँ कुछ इस तरह से होती है जैसे स्पेक्ट्रम के एक छोर से दूसरे छोर तक किरणे बेतहाशा उतार-चढ़ाव करती हैं.

ऑटोइम्यून डिसऑर्डर (Autoimmune Disorder)

ऑटोइम्यूनिटी एक प्रकार की मानसिक समस्या है. ऐसा इसलिए क्योंकि ऑटोइम्यून डिसऑर्डर के लिए इनफ्लेमेशन भी जिम्मेदार है और ये हमारे ब्रेन और नर्वस टिश्यू को काफी हद तक डेमेज कर सकता है, जिससे आपके मूड में वेरिएशन होना तय है.

टॉक्सिक मोल्ड प्वाइजनिंग (Toxic Mold Poisoning)

मोल्ड टॉक्सिसिटी की वजह से इंसान को कई तरह की मानसिक परेशानियां हो सकती हैं, जिसमें एंग्जायटी, डिप्रेशन, ब्रेन फॉल, नींद की कमी आदि शामिल है. इस स्थिति में कई लोगों को पता भी नहीं होता कि उन्हें इस तरह की समस्या है.

(Disclaimer: यहां दी गई खबर आम जानकारियों पर आधारित है. इसे अपनाने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें. इनख़बर इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

 

यह भी पढ़ें :

बीजेपी MYY फॉर्मूला: पीएम मोदी राजस्थान बीजेपी की लगाएंगे नैया पार, चुनावों में फिर ‘MYY’ फॉर्मूला बनेगा संकटमोचन

भारत में ओमिक्रोन सबवैरिएंट BA.4 का पहला केस मिला, इन्साकाग ने की पुष्टि, जानें क्या है ये नया वैरिएंट?

Latest news