नई दिल्ली. आज देश में छठ पर्व मनाया जा है. छठ को लोक आस्था का पर्व कहा जाता है. इसमें छठी मैया और सूर्य की पूजा की जाती है. दिवाली के 6 दिन बाद शुरू होने वाले छठ पूजा का विशेष स्थान है. ये त्योहार चार दिन तक चलता है. ये त्योहार नहाय खाय से शुरू होकर भोर के अर्घ्य पर संपन्न होगा. इस पर्व में उगते सूर्य के साथ- साथ डूबते सूर्य की भी आराधना की जाती है. ये पर्व अनेक वैज्ञानिक और आध्यात्मिक संदेशों को खुद में समेटे हुए है. ये ऐसा पर्व है जिसे महापर्व की संज्ञा दी गई है. इस पर्व को मनाने के पीछे कई कथाएं प्रचलित है. 
 
मान्यता है कि महाभारत की द्रोपदी ने भी इस व्रत को रखा था. शास्त्रों के अनुसार पांडव अपना पूरा राजपाठ कौरवों से जुए में हार गए थे और जंगल-जंगल भटक रहे थे. द्रौपदी से यह देखा न गया और उसने छठ पूजा की और व्रत रखा. जिसके प्रभाव के कारण पांडवों को अपना खोया हुआ राज वापस मिल गया था. इसके अलावा एक अन्य कथा के अनुसार कहा गया है कि राम और सीता ने भी छठ पूजा की थी. शास्त्रों के अनुसार जब भगवान श्री राम वनवास से वापस आए तब राम और सीता ने कार्तिक शुक्ल षष्ठी के दिन व्रत रख कर रखकर भगवान सूर्य की आराधना की और सप्तमी के दिन यह व्रत पूरा किया. इसके बाद राम और सीता ने पवित्र सरयू के तट पर भगवान सूर्य का अनुष्ठान कर उन्हें प्रसन्न किया और उनका आशीर्वाद प्राप्त किया था. इस विशेष पर्व को आज भी पूरी श्रद्धा के साथ मनाया जाता है. आज भी लोग पूरे पारंपरिक तौर तरीके से इस त्योहर को सेलेब्रेट करते हैं. आइए दिखाते हैं कि कुछ ऐसी तस्वीरे जिसमें आप छठ पूजा के अलग अलग रंगों को देख सकते हैं. 
 
1. 
 
2. 
 
3.
 
 
4.
 
5.
 
 
6.
 
7.
 
 
8.
 
 
 
 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर