नई दिल्ली: हिंदू शास्त्रों के अनुसार करवा चौथ का व्रत सुहागिनों के लिए सबसे महत्वपूर्ण व्रत माना गया है. सभी सुहागन अपने पति के लिए इस दिन करवा चौथ का व्रत रखती है. यह व्रत सुहागिनें अपने पति की लंबी उम्र की कामना के लिए करती हैं. बता दें कि करवा चौथ का व्रत कार्तिक मास की कृष्ण चतुर्थी को मनाया जाता है. इस दिन महिलाएं पूरा दिन बिना कुछ खाए पिए रहती हैं और शाम को चांद देखकर अपने पति के हाथ से पानी पीकर व्रत खोलती हैं.
 
लेकिन क्या आप जानते हैं कि पूरा दिन बिना कुछ खाए और बिना पानी पिए रहना कितना मुश्किल होता है. यह एक कठोर निर्जल व्रत होता है. लेकिन आज हम आपको करवा चौथ के व्रत के लिए टिप्स बताने जा रहे हैं. इन टिप्स को अपनाकर आप कठिन करवा चौथ के व्रत को भी आसानी से कर सकती हैं. 
 
करवा चौथ का व्रत एक निर्जला व्रत होता है यानि इस व्रत खाने के साथ पानी की एक बूंद भी नहीं पी जाती है और शाम को चांद देखने के बाद ही पति के हाथ से पानी पीकर व्रत खोला जाता है. लेकिन पानी न पीने से शरीर में पानी की कमी हो जाती है, जिससे आप काफी कमजोरी महसूस करते हैं और करवा चौथ के व्रत वाले दिन बार-बार प्यास लगती है. लेकिन अब घबराने की जरूरत नहीं है. दरअसल, करवा चौथ के व्रत से एक दिन पहले खूब पानी पिना चाहिएं. इसके अलावा आप एक दिन पहले पेय पदार्थ यानि जूस, नारियल पानी, छाछ आदि खूब पीएं. ऐसा करने से आपके शरीर में पानी की कमी नहीं होगी और आप अगले दिन आराम से व्रत रख सकती हैं.
 
 
– करवा चौथ से एक दिन पहले रात को हल्का यानि लाइट खाना खाएं और खाना रात को जल्दी खा लें. खाने में सब्जी, दाल और सलाद आदि जरूर लें.
 
–  करवा चौथ की सरगी में संतुलित आहार ही लें और तले भुने चीजों को इग्नोर करें. सरगी में आप सूखे मेवे, दूध, जूस, लस्सी, हलवा आदि ले सकती हैं
 
– करवा चौथ के दिन कई औरतें शाम को चाय पी लेती हैं, लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं करना चाहिए. क्योंकि पूरे दिन पानी भी न पीने के बाद अचानक चाय पीने से एसिडिटी बन सकती है. 
 
– करवा चौथ के दिन चांद को अर्ध्य देने के बाद एकदम तला भुना भारी खाना नहीं खाना चाहिए. बल्कि हल्का खाना खाना चाहिए. 
 
 
 


Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App