नई दिल्ली. यदि आपके दादा-दादी अभी तक सोशल मीडिया पर एक्टिव नहीं हैं यानी कहने का मतलब यह है कि यदि अभी तक वे फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम यूज नहीं करते हैं तो जल्द से जल्द उनका अकाउंट बना दीजिए.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
हम आपको ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि सोशल मीडिया बड़े-बुजूर्गों के अकेलेपन के साथ-साथ हाई ब्लडप्रेशर और सुगर की समस्या को दूर करता है. रिसर्चरों का कहना है कि फेसबुक, ई-मेल, ट्विटर, स्काईप और फेसबुक जैसे सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म बड़े-बुजूर्गों के रिश्तों को फिर से जवां करते हैं और वे अकेलापन महूसस नहीं करते हैं क्योंकि ज़िन्दगी के इस पड़ाव में उनकी बीमारियों की सबसे बड़ी वजह अकेलापन ही है.
 
इस रिसर्च की जानकारी देते हुए अमेरिका के मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी के असिसटेंट प्रोफेसर विलियम चौपिक ने कहा कि सोशल मीडिया शारीरिक और मानसिक सेहत तौर पर अकेलेपन को दूर करती है. चोपिक के मुताबिक रिसर्च के बाद यह पाया गया कि सोशल मीडिया के इस्तेमाल से 95 बुजूर्ग काफी संतुष्ट और खुश नजर आए, जबकि बाकी लोगों ने कहा कि उन्हें टेक्नोलॉजी सीखने में कोई दिलचस्पी नहीं है.