नई दिल्ली: हाल के दिनों में देखा गया है कि भारत की तमाम कंपनियां सस्ते स्मार्टफोन को बाजार में लॉन्च रही हैं, जिसमें फ्रीडम 251 का नाम सबसे पहले पायदान पर है. अब एक और भारतीय कंपनी डोकोस (Docoss) ने मात्र 888 रुपये में स्मार्टफोन X1 देने की बात कही है. इसकी बुकिंग भी हो चुकी है और कंपनी ने मई के पहले हफ्ते से इसकी डिलिवरी की भी घोषणा की है. ऐसे फोन की खरीदारी में आपकी रुची भी है, लेकिन आज हम आपको ऐसे फोन की खामियों से रूबरू कराने वाले है.
 
1. फर्जीवाड़े का डर
कम दाम में स्मार्टफोन देने वाली अधिकतर कंपनियां सस्ते दामों में फोन के पार्ट्स को खरीदती है और उसे असेंबल करके फोन बनाती हैं जिसके कारण ऐसे स्मार्टफोन की कोई लाइफ नहीं होती है.
 
2. खराब क्वालिटी के पार्ट्स
सस्ते दाम में स्मार्टफोन देने वाली कंपनियां खराब क्वालिटी की ऐसेसरिज इस्तेमाल करती हैं. कई बार ऐसा भी होता है कि कंपनी दूसरे ब्रांड के सस्ते फोन खरीदती हैं और उसके ऊपर अपना लोगो लगाकर बेचती हैं, जैसा कि 251 वाले मामले में हुआ था.
 
3. अपडेट का नहीं मिलना
ऐसे स्मार्टफोन की सबसे बड़ी खामी यही है कि इसमें अपडेट नहीं मिलता ही नहीं है. ऐसे में आपका फोन धीमा हो जाता है और हैंग करने लगता है. अपडेट नहीं मिलने के बाद सुरक्षा संबंधी परेशानियां बढ़ जाती हैं.
 
4. सर्विस की कमी
जो भी कंपनियां सस्ते में स्मार्टफोन देने का दावा करती हैं, उनके साथ सबसे बड़ी दिक्कत यह है कि आपको सर्विस नहीं मिलती है, क्योंकि इनका कोई सर्विस सेंटर आमतौर पर नहीं होता है.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App