नागपुरः कहते हैं इंसान को मन का काम करना चाहिए. जिसमें हो सकता है की सफलता और पैसा कम मिले लेकिन आत्मसंतोष बहुत मिलता है. और इसी बात को सही साबित करते हुए पेशे से सॉफ्टवेयर इंजीनियर नितिन बियाणी आजकल पूरे नागपुर में चर्चा का विषय बने हुए हैं. जिसका कारण है. जिसका कारण है उनके द्वारा लाखों रुपयों के पैकेज को छोड़ चाय की दुकान चलाने के कारण. नितिन पिछले 10 सालों से एक कंपनी में बतौर सॉफ्टवेयर इंजीनियर काम कर रहे हैं जिसके बाद उन्होंने अपने दिल की सुनते हुए चाय की दुकान खोल डाली.

मामला नागपुर का है जहां पेशे से सॉफ्टेयर इंजीनियर नितिन बियाणी आज कल हर किसी की चर्चा का विषय बने हुए हैं. नितिन ने अपनी अच्छी खासी 15 लाख सालाना पैकेज वाली नौकरी को अलविदा कहते हुए एक चाय की दुकान खोली है. जिसका नाम उन्होंने रखा है ‘चाय विला’ नितिन के मन में ये इच्छा काफी पहले से थी जिसको अब जाकर पूरा किया जा सका है. लेकिन उनके द्वारा खोली गई चाय की दुकान कोई आम चाय की दुकान नहीं है. उन्होंने अपनी चाय की दुकान को एकदम नया लुक दिया है. और उनकी चाय अस्पतालों, आस-पास के कार्यालयों और पेशेवरों को सप्लाई की जाती है. उनके इस चाय विला में लगभग 20 तरह की चाय मिलती है. अपनी इस चाय की दुकान से नितिन ने पिछले महीने 5 लाख रुपये कमाए हैं.

नितिन के ‘चाय विला’ की सबसे खास बात ये है कि यहां बनने वाली हर चाय के लिए मिनिरल वाटर का प्रयोग किया जाता है. लेकिन इसके बाद भी अन्य पॉपुलर चाय की दुकानों को देखते हुए यहां चाय के रेट काफी कम हैं. यहां चाय 8 से लेकर 20 रुपये तक मिलती है. नितिन के इस काम में उनकी पत्नी पूजा भी उनके साथ पूरा सहयोग करती हैं. पूजा भी पेशे से एक इंजीनियर हैं जो पुणे की एक नामी कंपनी में काम कर रहीं थीं. लेकिन पति की मदद करने की खातिर उन्होंने भी अपनी नौकरी छोड़ दी और पति के साथ पूरा समय अपनी चाय की दुकान को देने लगीं हैं. इंजिनीयर नितिन बियाणी द्वारा खोली गई चाय की दुकान ‘चाय विला’ कुछ ही दिनों में पूरे नागपुर में नाम कमा चुकी है. अब जब चाय की दुकान हिट हो चुकी है तो इंजिनीयर पति-पत्नी का प्लान अपने ‘चाय विला’ की ब्रांच को अलग अलग जगहों पर खोलने का है.

 

भारतीय कॉफी का दीवाना है दुनिया को पिज्जा का स्वाद चखाने वाला इटली

Cash Crunch: नकदी जमाखोरों पर छापेमारी शुरू, RBI ने तेज की कैश की सप्लाई

ATM में कैश न होने पर बोले अखिलेश यादव- केंद्र के इशारे पर तो नहीं हो रही जमाखोरी?

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App