लखनऊ. उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने एक अनूठी मिसाल पेश की है. लखनऊ में भिखारियों के लिए कल्याण को लेकर सीएम योगी ने नगर निगम विभाग को आदेश दिया था कि राजधानी के सभी भिखारियों की पहचान कर उन्हें नौकरी दी जाए. जिसके बाद विभाग ने भिखारियों को भी मुख्यधारा से जोड़ने के लिए इस कदम को उठाया. राज्य सरकार का मकसद है कि भिखारी किसी तरह भीख मांगना छोड़कर मेहमन-मजदूरी का काम करे ताकी समाज में वे लोग भी पूरे सम्मान और आत्मविश्वास के साथ रह सकें.

लखनऊ नगर निगम आयुक्त इंद्रामणि त्रिपाठी ने बताया कि सभी भिखारियों को उनकी शैक्षणिक योग्यता के हिसाब से कार्य दिया जाएगा. इसके साथ ही गलियों में घूमने वाले गरीब बच्चों को भी पुनर्वासित करने की योजना बनाई जा रही है जिससे वे सभी बच्चे स्कूल जाकर बेहतर शिक्षा पाकर अपना अच्छा भविष्य बना सकें. इंद्रामणि त्रिपाठी ने आगे कहा कि जो भिखारी दिव्यांग हैं उन्हें सरकार की ओर से शेल्टर होम में रखा जाएगा, जहां उन्हें शारीरिक क्षमता के अऩुसार किसी न किसी तरह का काम दिया जाएगा.

भिखारियों को मिलेगा कुछ ऐसा काम
यूपी सीएम का नगर निगम को आदेश था कि शहर के सभी भिखारियों की पहचान कर उन्हें शेल्टर होम में स्थानांतरित करवाएं. जिसके बाद उन्हें शहर के अलग-अलग इलाकों में कूड़ा इक्ट्ठा करने का कार्य सौंपा जाएगा. इस काम के लिए उन्हें उचित मजदूरी भी दी जाएगी. कुछ भिखारियों को सफाई व अन्य काम भी सौंपे जाएंगे. मुख्यमंत्री के आदेश के बाद निगम ने शहर के सभी भिखारियों की रिपोर्ट बनानी शुरू कर दी है, जल्द ही निगम इस पर काम शुरू कर देगा.

Modi Govt Centre Rejects Yogi UP 17 OBC Caste in SC List: यूपी में 17 ओबीसी जातियों को एससी में शामिल करने पर योगी आदित्यनाथ सरकार को केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार से बड़ा झटका, थावरचंद गहलोत ने संसद में कहा- फैसला वापस ले राज्य सरकार

Yogi Adityanath Govt on DJ Bhajan in Kanwar Yatra: सावन कांवड यात्रा में कांवड़िये बजाएंगे डीजे लेकिन फिल्मी गाने नहीं भजन, योगी आदित्यनाथ सरकार का आदेश

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App