न्यूयार्क: कहावत है कि अगर आप किसी काम को करने के लिए दृढ़ संकल्प ले लेते हैं को उसे पूरा करने से आपको कोई नहीं रोक सकता है. ऐसी ही एक प्रेरित करने वाली स्टोरी अमेरिका के अलबामा में सुनने और देखने को मिली है. दरअसल ये स्टोरी है अमेरिका के पेल्हम की जो अलबामा स्टेट में आता है. यहां वॉल्टर नामक के शख्स ने अपनी पहली नौकरी पर समय पर पहुंचने के लिए एक रात में 32 किमी की दूरी पैदल चलकर तय की ताकि वो सही समय पर ऑफिस पहुंच सके.

ऐसा नहीं है कि वाल्टर पास ऑफिस जाने के लिए कोई साधन नहीं था. वॉल्टर के पास अपनी कार थी लेकिन ऑफिस जाने से एक दिन पहले ही उसमें कोई खराबी आ गई. वाल्टर हाल ही में एक ऐसी कंपनी ज्वाइन किया था जो लोगों को उनको घरों तक पहुंचने में सहायता करती है. काम पर अपने पहले दिन, उन्हें अपने ग्राहकों जेनी लेमे और उनके पति क्रिस की मदद करने के लिए जाना था, जो वॉल्टर के घर से लगभग 20 मील दूर (32 किमी) दूर होमवुड में रहते थे जबकि वॉल्टर पेल्हाल, अलबामा में रहते हैं. लेकिन, जॉब पर अपने पहले दिन से एक रात पहले, वाल्टर की कार टूट गई. इसके बाद वाल्टर को कुछ समझ नहीं आया कि वो अगले दिन ऑफिस कैसे जाएगा.

लेकिन वाल्टर ने आशा नहीं खोया. कार खराब होने के बाद वाल्टर ने रात में ही जेनी के घर के लिए निकल पड़ा वो भी पैदल. वाल्टर पूरी रात में 32 किमी की दूरी पैदल ही तय कर सुबह तक टाइम पर जेनी के घर पहुंच गया. लेकिन वाल्टर की ये बात जब जेनी को पता चला तो उसने बिना समय गंवाए इस प्रेरणादायक कहानी को सोशल मीडिया साझा करने में तनिक भी देर नहीं की.

वाल्टर को नई कार की चाबी सौपते हुए कंपनी के सीईओ

जेनी ने सोशल मीडिया पर लिखते हुए कहा कि एक ऑफिसर ने हमें बताया कि वाल्टर की कार खराब हो गई गई थी. जिसके बाद उसके समझ नहीं आया कि वो ऑफिस का काम कैसे करें. इसलिए वाल्टर ने मिडनाइट में ही घर से निकला हो पेल्हाम के लिए चलना शुरू कर दिया. वह भी पूरी रात बिना रूके. तभी सुबह उसको पुलिस ने पकड़ लिया लेकिन वाल्टर ने जब अपनी स्टोरी सुनाई तो बकायदा नास्ता कराया गया और फिर जेनी के घर छोड़ा गया. जेनी के घर पहुंचने के बाद वाल्टर को कुछ देर आराम करने के लिए भी कहा गया लेकिन वो बिना रूके अपने काम पर लग गया.

लेकिन जब कंपनी के सीईओ को अपने इस नए कर्मचारी वाल्टर के इस काम के बारे में पता चला तो उन्हें भी गर्व महसुस हुआ. इसके बाद सीईओ ने वाल्टर से मुलाकात की और उन्होंने अपनी ओर से वाल्टर को फोर्ड की एक नई कार ईनाम के रूप में दिया. इसके बाद वाल्टर ने साबित कर दिया कि अगर आप अपने कार्य को लेकर दृढ़ संकल्पित है तो औपको दुनिया की कोई ताकत उसे पूरा करने से नहीं रोक सकती है.

ख़बर ज़रा हटकर: बिहार के गया में भिखारी चलाते हैं बैंक

पृथ्वी के इतिहास में जुड़ा नया अध्याय- मेघालयी युग, क्या है इसका मतलब ?

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App