लंदन. ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ के सामने पहली बार उनके कर्मचारियों की हड़ताल का खतरा मंडरा रहा है. उनके विंडसर महल के कर्मचारी कम वेतन और भत्ते की शिकायत को लेकर एकजुट हो गए हैं. समाचारपत्र ‘द टेलीग्राफ’ के अनुसार, महल के कर्मचारियों का वेतन 14,400 पाउंड (लगभग 21,000 डॉलर) वार्षिक से शुरू होता है. उन्हें इतना कम वेतन मिल रहा है जो उनके जीवन-बसर के लिए नाकाफी है लेकिन बगैर अतिरिक्त भुगतान के उनसे अतिरिक्त कार्य लिए जाते हैं, जैसे कि पर्यटकों के मार्गदर्शन के लिए और दुभाषियों व प्राथमिक उपचारकर्ता के रूप में उन्हें उनके साथ भेजा जाता है.

विंडसर के 200 में से 120 कर्मचारियों का प्रतिनिधित्व करने वाली ‘द पब्लिक एंड कॉमर्शियल सर्विसिस (पीसीएस) यूनियन’ ने कहा कि शाही परिवार ने कर्मचारियों को अतिरिक्त काम के लिए अतिरिक्त भुगतान करने का वादा तोड़ दिया है. इस संबंध में यूनियन अपने सदस्यों के बीच 31 मार्च से 14 अप्रैल के बीच मतदान करवाएगा. पीसीएस के महासचिव मार्क सरवोतका ने कहा, ‘यह शर्मनाक है कि कर्मचारियों को इतना कम वेतन दिया जाता है और उनसे उस तरह के काम मुफ्त करने की उम्मीद की जाती है, जिनसे शाही परिवार को कमाई होती है.’

विंडसर महल, दुनिया का सबसे बड़ा और सबसे पुराना अधिवासित महल है. यहां हर साल लगभग 11 लाख आगंतुक आते हैं, जो इस महल में 1.7 करोड़ पाउंड से ज्यादा धनराशि खर्च करते हैं. रॉयल कलेक्शन ट्रस्ट, आगंतुकों से मिलने वाली इस राशि का उपयोग शाही महलों और उनकी वस्तुओं के रखरखाव में करता है.

IANS

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App