रोम. सार्वजनिक जगहों पर हस्तमैथुन करना अब कोई गुनाह नहीं है. इसे अब कानूनी मान्यता भी मिल गई है. एक शख्स द्वारा तीन साल की सजा काटने के बाद कोर्ट ने यह फैसला सुनाया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
दरअसल इटली के सुप्रीम कोर्ट ने एक व्यक्ति को हुई सजा पर फैसला सुनाते हुए ये बाते कहीं. पियर्टो एल (69) नाम के व्यक्ति को यूनिवर्सिटी ऑफ कैटाना के कैम्पस में छात्रों के बीच हस्तमैथुन करते हुए पकड़ा गया था, जिसके बाद कोर्ट ने उसे 3 साल की जेल की सजा और 3420 यूरो का जुर्माना भी लगाया था.
 
 
वहीं नई सरकार बनने के बाद सुप्रीम कोर्ट के जज ने कहा कि पियर्टो एल द्वारा की गई हरकत जुर्म के दायरे में नहीं आती है. इसलिए कोर्ट सार्वजनिक जगहों पर किए गए अश्लील हरकतों को जुर्म के दायरे से बाहर रखता है.
 
वहीं कोर्ट के इस फैसले का राजनेताओं ने विरोध किया है. उन्होंने प्रधानमंत्री माटेओ रेन्जी पर समाज का माहौल बिगाड़ने का आरोप लगाया है और कहा है कि सरकार के कानून हर कुछ पागलों को महिलाओं से छेड़छाड़ करने के लिए निमंत्रन देने जैसा है.
 
 
हालांकि पियर्टो अगर फिर से ऐसी हरकत करते हुए पकड़े जाते हैं तो उनपर 5 हजार से लेकर 30 हजार यूरो तक का जुर्माना लगाया जाएगा. पियर्टो ने कोर्ट में दलील दी थी कि वे किसी खास मौके पर ही ऐसा करते हैं.