चेन्नई : Chennai CDS जनरल बिपिन रावत के हेलिकॉप्टर दुर्घटना से पहले का जो वीडियो वायरल हुआ था और जिस मोबाइल से उसे बनाया गया स्थानीय पुलिस ने उसे फोरेंसिक जांच के लिए भेज है। साथ ही फोटोग्राफर से पूछा गया है कि वे घने वन क्षेत्र में क्यों गए थे जबकि वन्य जीवों की गतिविधियों के कारण वह प्रतिबंधित इलाका है।

क्रैश से ठीक पहले का वीडियो

बनाए गए वीडियो में हेलिकाप्टर अच्छी तरह से उड़ता हुआ दिखाई देता है। फिर अचानक वह धुंध में खो जाता है। यह वीडियो कोयंबटूर के एक फोटोग्राफर वाई जो पॉल उर्फ कुट्टी ने बनाया था। वे उस समय अपने दोस्तो एवं परिवारजनों के साथ हिली नीलगिरी डिस्ट्रिक्ट के कट्टेरी एरिया के जंगल में छुट्टियाँ मनाने गए हुए थे। वीडियो वायरल हो जाने के बाद कुट्टी की जानकारी सामने आई। जाँच टींम ने उनका मोबाइल फोन जब्त कर लिया। जिसकी फोरेंसिक जांच कराई जा रही है। यह मोबाइल फोन अब पुलिस इंवेस्टीगेशन का हिस्सा है।

सुराग तलाशने में जुटी पुलिस
इस बीच, पुलिस विभाग ने चेन्नई स्थित मौसम विभाग से हादसे वाले दिन के क्षेत्र में मौसम और तापमान से जुड़ी डिटेल्स भी मांगी हैं। साथ ही पुलिस इस केस से जुड़े प्रत्यक्षदर्शियों से भी पूछताछ कर कोई सुराग हासिल करने में जुटी हुई है। बता दें कि भारतीय सेना के सर्वोच्च अधिकारी जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत और 11 अन्य सैन्य अधिकारी की 8 दिसंबर को कुन्नूर में हुए MI-17 V5 हेलिकॉप्टर क्रैश में मौत हो गई थी। इस हादसे में एकमात्र सर्वाइवर ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह हैं, जिनका बेंगलुरु में इलाज चल रहा है।

यह भी पढ़े :

MQM Leader Apeal सिंध व बलूचिस्तान को पाक के कब्जे मुक्त करवाएं यूएन, पीएम मोदी व ब्रिटिश पीएम

आज ही के दिन ODI कप्तान बने रोहित शर्मा ने ठोके थे 25 गेंदों में 124 रन

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर