नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश सरकार युवाओं के लिए एक और खास अवसर लेकर आई है. यह अवसर सात साल बाद योगी सरकार ने अभ्यर्थियों को मुहैया कराया है. दरअसल, यूपी के एडेड जूनियर हाईस्कूलों में रिक्त शिक्षकों के 1894 पदों की पहली बार लिखित परीक्षा 11 अप्रैल को होने जा रही हैं. इस भर्ती से पहले उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपी टीईटी) नहीं हो सकी, लेकिन यह उन अभ्यर्थियों के लिए बड़ा अवसर है, जो भर्ती की आस में पिछले कई वर्षों से उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा पास करते चले आ रहे हैं. सिर्फ पांच साल में ही भर्ती की अर्हता परीक्षा उत्तीर्ण करने वालों की संख्या 4.28 लाख से अधिक हो गई है. वहीं, केन्द्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (सीटीईटी) में उच्च प्राथमिक स्तर का परिक्षा पास करने वालों की संख्या अलग है.

बता दें कि उत्तर प्रदेश में हर साल शिक्षक पात्रता परीक्षा कराई जाती है. जिसमें लाखों अभ्यर्थी भाग लेते हैं. इस दौरान अभ्यर्थियों को प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्तर की दो परीक्षाएं देनी होती हैं. इसके जरिये सूबे के प्राथमिक स्कूलों में तो नियमित अंतराल पर भर्तियां हो रही हैं, लेकिन उच्च प्राथमिक स्तर की टीईटी उत्तीर्ण करने वालों को मौका नहीं मिल पा रहा था. हर वर्ष परीक्षा उत्तीर्ण करने वालों की संख्या अधिक होती जा रही है. इसी तरह से केंद्र की टीईटी में भी वर्ष में दो बार अभ्यर्थी उत्तीर्ण हो रहे हैं. लेकिन, इस बार योगी सरकार ने भी इन अभ्यार्थियों के लिए नई पहल शुरू की है.

इस भर्ती के तहत अभ्यर्थियों को सात साल इंतजार के बाद सीधी भर्ती में शामिल होने का अवसर मिल रहा है. इसके पहले वर्ष 2013 में विज्ञान व गणित के 29334 शिक्षकों की भर्ती बेसिक शिक्षा परिषद के उच्च प्राथमिक स्कूलों में हुई थी. भर्ती में भले ही पदों की संख्या 1894 ही है लेकिन, एक पद दावेदारों की संख्या कई गुना होने का अनुमान है. वास्तविक संख्या आवेदन पूरा होने के बाद मार्च में स्पष्ट होगी. बता दें कि इस भर्ती के लिए 22 फरवरी से ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया शुरू हो रही है.

CBSE Board 10th, 12th Exam 2021: प्राइवेट कैंडिडेट्स के लिए रजिस्ट्रेशन की डेट आगे बढ़ी, जानें सारी जानकारी

Delhi Nursery Admission 2021: 18 फरवरी से शुरू होगा दिल्ली नर्सरी एडमिशन का प्रोसेस, इस दिन जारी होगी पहली लिस्ट