नई दिल्ली. जैन समुदाय के एतराज के चलते राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने 25 अप्रैल महावीर जयंती पर आयोजित होने वाली राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (रीट) के फैसले को वापस ले लिया है, राजस्थान सरकार शीघ्र ही परीक्षा की नई तारीख का एलान करेगी. ऑल इंडिया जैन माइनॉरिटी फेडरेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री ललित गांधी ने सरकार के इस फैसले पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि ये ‘देर आयद दुरस्त आयद’ जैसा है अतः  तमाम राज्य सरकारों  व केंद्र सरकार को कोई निर्णय लेते समय जैन हितों का पूर्ण ध्यान रखना व जैन धर्मावलंबियों की भावनाओं की कदर अवश्य करना चाहिए.

सरकार को ऐसे फैसले लेते समय दूरदर्शिता बरतनी चाहिए व अपने विवेक का इस्तेमाल करना चाहिए. ये उल्लेखनीय है कि राजस्थान सरकार के इस फैसले का विरोध करते हुए जैन अल्पसंख्याक फेडरेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललित गांधीने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को जैन समाज की नाराजी व्यक्त करते हुए परीक्षा की तारीख मे परिवर्तन करने की मांग का निवेदन प्रेषित किया था. जैन अल्पसंख्याक फेडरेशन के अनुरोध पर राष्ट्रीय अल्पसंख्यक शिक्षण संस्था आयोग के अध्यक्ष जस्टीज एन. के. जैन और राष्ट्रीय अल्प संख्यक आयोग के उपाध्यक्ष श्री अतिप रशीद आदि ने पुरजोर विरोध किया था, राजस्थान सरकार के इस फैसले का ‘अखिल भारतीय अल्पसंख्यक महासंघ” की राजस्थान प्रांतीय एकाई  के अध्यक्ष विमल रांका ने कड़ा एतराज जताया था.

जैन अल्पसंख्याक फेडरेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललित गांधी ने इस फैसले के विरोध में अपनी आवाज मुखरित करने वाले तमाम जैन अग्रणियों व हितचिंतकों के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित की. ललित गांधी ने जैन समाज के राजस्थान सरकार में मंत्री श्री प्रमोद जैन भाया के प्रति भी आभार प्रकट किया” जिन्होंने अखिल भारतीय जैन अल्पसंख्यक महासंघ द्वारा प्रकट किए गए एतराज को सरकार तक पहुंचाया.

BPSC Recruitment 2021 : बिहार में क्लर्क पद के लिए निकली बंपर भर्तियां, ऐसे करें अप्लाई

New Office Rule 2021 : सरकार बदलने जा रही है नौकरी के नियम, 12 घंटे की होगी शिफ्ट, 5 घंटे के बाद आधे घंटे का ब्रेक