नई दिल्ली, इस समय गुजरात की 10वीं की बोर्ड की परीक्षा चल रही हैं. इसी बीच शनिवार को परीक्षा खत्म होने से पहले ही गुजरात बोर्ड की दसवीं की परीक्षा का पेपर सोशल मीडिया पर लीक हो गया, जिसके बाद विवाद खड़ा हो गया है. अभ्यर्थी हिंदी का पेपर दे रहे थे तभी सोशल मीडिया पर जवाब के साथ पूरा पेपर वायरल हो गया, इसपर गुजरात माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने पेपर के लीक होने की आशंका जताई है और कहा कि वे इस मामले की कड़ी जांच कर रहे हैं.

कांग्रेस ने की शिक्षा मंत्री के इस्तीफे की मांग

सोशल मीडिया पर पेपर के वायरल होने के बाद कांग्रेस ने गुजरात के शिक्षा मंत्री जीतु वाधाणी के इस्तीफे की मांग की है. कांग्रेस ने कहा कि इससे पहले सरकारी भर्ती के लिए जो परीक्षाएं आयोजित की जाती थी, उनके पेपर लीक हुआ करते थे, लेकिन अब तो 10वीं का पेपर लीक हुआ है, ऐसे में गुजरात के शिक्षा मंत्री जीतु वाधाणी को इस्तीफ़ा ही दे देना चाहिए.

क्यों संसद में नहीं पहुंचे इमरान, किस डर से पवेलियन में जमे पाँव

वहीं, दूसरी और गुजरात शिक्षा बोर्ड के चेयरमैन एजे शाह ने अपने बयान में कहा कि इस घटना को पेपर लीक नहीं कहा जा सकता, हो सकता है किसी छात्र ने पेपर देने के बाद बाहर आकर सोशल मीडिया पर पेपर को उत्तर सहित वायरल कर दिया हो. शाह ने आगे कहा कि इस पुरे मामले की जांच के लिए सायबर क्राइम की मदद ली जाएगी, मोबाईल में कैसे पेपर आया और कैसे और किसने इसे वायरल किया उसका पता लगाया जाएगा. बता दें आज जो बच्चें इम्तिहान दे रहे थे उनकी तादाद 7.49 लाख हैं.

गुजरात शिक्षा बोर्ड के चेयरमैन ने कहा कि जो बच्चें इम्तिहान दे रहे थे उनकी तादाद तकरीबन 7.49 लाख हैं. इम्तिहान 10 बजे शुरू हुआ और सॉशल मीडिया पर 12:45 इसका उत्तर सहित पूरा पेपर वायरल हो गया, क्लास रुम में बच्चों के पास मोबाईल फोन नहीं होते, ऐसे में ये पेपर कैसे वायरल हुआ और कैसे सोशल मीडिया पर फैला इसका पता लगाया जाना चाहिए.

Booster Dose Cost : कोविशील्ड और कोवैक्सीन की बूस्टर डोज के दामों में कटौती, जानिए पहले और वर्तमान कीमत

 

 

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर