उत्तर प्रदेश. UPTET paper leak उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा का प्रश्न-पत्र लीक के चलते परीक्षा को रद्द कर दिया गया था. इस परीक्षा लीक मामलें में एक बड़ी लापरवाही सामने आई है. दसअसल इस परीक्षा का प्रश्न-पत्र एक ऐसी कंपनी को प्रिंटिंग के लिए दिया गया जो परीक्षा मानकों को पूरा नहीं करती है. ख़बरों के मुताबिक सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी रहते संजय उपाध्याय ने बिना किसी जांच पड़ताल के यूपी टीईटी का प्रश्न-पत्र प्रिंटिंग के लिए एक ऐसी कंपनी को दिया जो परीक्षा के सभी प्रोटोकॉल्स को पूरा नहीं करती है. इस परीक्षा का ठेका लेने के बाद उस कंपनी ने अन्य चार प्रिटिंग कंपनियों को प्रश्न-पत्र प्रिटिंग के लिए हायर किया था.

सीएम योगी ने सख्त कार्यवाही के दिए थे निर्देश

उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस पेपर लीक मामलें को गैंगस्टर एक्ट के तहत जांच करने के निर्देश दिए थे. अभीतक इस पेपर लीक मामलें में 29 लोगों की गिरफ़्तारी हो चुकी हैं. इस मामलें की जांच STF (स्पेशल टास्क फाॅर्स ) को सौपी है. यूपी टीईटी की परीक्षा अगले माह 26 से 28 दिसंबर तक आयोजित की जा सकती है. दोबारा आयोजित की जा रही परीक्षा में उम्मीदवारों से किसी भी प्रकार की फीस नहीं ली जाएगी

यह भी पढ़ें: 

International flights fare Hike: ओमिक्रोन की दहशत के चलते दोगुना हुआ हवाई किराया

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर